Sat. Jan 23rd, 2021

स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात कर जीवन पथ पर आगे बढ़े छात्र-युवा: राहुल

Share this News

स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात कर जीवन पथ पर आगे बढ़े छात्र-युवा: राहुल

बी.बी.एन-डेस्क

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) सारण जिला परिषद् ने संगठन कार्यालय मंजर रिजवी भवन सलेमपुर छपरा में छात्र-युवाओं के आदर्श, देश और दुनिया में अपने विचारों से सबको प्रभावित करने वाले, स्वामी विवेकानंद की 158वीं जयंती युवा दिवस के रूप में मनाई गई. जिसकी अध्यक्षता किरण सागर ने किया. सभा को संबोधित करते हुए राज्य उपाध्यक्ष राहुल कुमार यादव ने कहा कि महापुरुषों में स्वामी विवेकानंद एक बड़ा नाम है. उनके शिकागो में वर्ष 1893 में दिए गए भाषण ने उन्हें भारतीय दर्शन और अध्यात्म का अग्रदूत बना दिया. तब से लेकर आज तक उनके विचार युवाओं को प्रभावित करते रहे हैं. आज के दौर में जब युवा नई-नई समस्याओं का सामना कर रहे हैं, नए लक्ष्य तय कर रहे हैं और अपने लिए एक बेहतर भविष्य की आकांक्षा रख रहे हैं तो स्वामी विवेकानंद के विचार और भी प्रासंगिक हो जाते हैं. उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद चाहते थे कि युवा अधिक से अधिक संख्या में सामाजिक गतिविधियों में शामिल हों,

जिससे न केवल समाज बेहतर बनेगा, बल्कि इससे व्यक्तिगत विकास भी होगा. उन्होंने समाज के सबसे कमजोर तबके के लोगों की सेवा करके एक नए समाज के निर्माण की बात कही. युवाओं से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि बाकी हर चीज की व्यवस्था हो जाएगी, लेकिन सशक्त, मेहनती, आस्थावान युवा खड़े करना बहुत जरूरी है. ऐसे 100 युवा दुनिया में एक नई क्रांति कर सकते हैं.

राज्य-पार्षद अमित नयन ने कहा कि वे कहते थे कि किसी भी तरीके का भय न करो. निर्भय बनो, सारी शक्ति तुम्हारे अंदर ही है. कभी भी यह मत सोचो कि तुम कमजोर हो. उठो, जागो और तब तक न रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए. वह हमेशा मानसिक रूप से सशक्त होने के साथ-साथ शारीरिक रूप से मजबूत होने की बात भी कहते थे.
आज के दौर में स्वामी विवेकानंद जी के विचार और भी प्रासंगिक हो गए हैं.
जयंती कार्यक्रम में मुख्य रूप से राज्य-पार्षद अमित नयन, प्रियांका कुमारी, रूपेश कुमार यादव, अंकुश कुमार पाठक, नवजीवन कुशवाहा, अविनाश कुमार, विनायक कुमार चौरसिया, विकास कुमार अन्य थे.