Mon. Oct 26th, 2020

पोषण परामर्श केंद्र के तहत दी गयी पोषण संबन्धित जानकारी

Share this News

पोषण परामर्श केंद्र के तहत दी गयी पोषण संबन्धित जानकारी

रितेश हनी

सहरसा – बीते 01 सितम्बर से जिले में चल रहे पोषण माह अभियान का बुधवार को सफलता पूर्वक समापन हो गया। इस दौरान पोषण माह को सफल बनाने के लिए पूरे माह तमाम गतिविधियों का आयोजन कर लोगों को पोषण के महत्व और उदेश्य को विस्तारपूर्वक बताया गया और लोगों को जागरूक किया गया। साथ ही पोषण से संबन्धित परामर्श हेतु जिले के सभी प्रखंडों में पोषण परामर्श केंद्र की स्थापना की गयी है। आईसीडीएस की डीपीओ रीता सिन्हा ने बताया कुपोषण भारत के लिए एक बड़ी समस्या है। कुपोषण को जड़ से खत्म करने के लिए पोषण अभियान के तहत जिले के सभी परियोजनाओं में पोषण परामर्श केंद्र की शुरुआत की गई थी, जिसमें गर्भवती व धात्री महिलाओं व उनके परिवार वालों की काउंसिलिंग के माध्यम से पोषण संबन्धित परामर्श दिया गया।हर वर्ग के लोगों के लिए उचित पोषण की दी गई जानकारी डीपीओ रीता सिन्हा ने बताया, संतुलित पोषक भोजन खानपान कराने वाली महिलाओं को संतुलित और पोषक भोजन का सेवन करना चाहिए, जिसमें साबूत अनाज, दाल, फल, मांस, मछली, हरी पत्तेदार साग-सब्जियां, दूध और दूध उत्पाद, संतुलित मात्रा में लेनी चाहिए। प्रसव के बाद माताओं में एनीमिया होने की शिकायत होने की संभावना अधिक होती हैं, इसीलिए 180 आयरन की गोली का सेवन करना चाहिए। साथ ही बताया, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रतिदिन 500 से लेकर 550 अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करना चाहिए, ताकि मां और बच्चें दोनों की पोषक आवश्यकता पूरी हो सकें।

शिशुओं के विकास के लिए 6 माह के बाद पूरक आहार जरूरी

डीपीओ रीता सिन्हा ने बताया, नवजात शिशुओं को छः महीने तक सिर्फ़ मां का दूध ही देना चाहिए इसके अलावे एक बूंद पानी भी नही देना होता हैं। दो साल तक स्तनपान के साथ पूरक आहार करना चाहिए। उन्होंने बताया, गर्भावस्था व जन्म के बाद के शुरुआती वर्ष में मस्तिष्क और अन्य महत्वपूर्ण अंगों के विकास के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। साथ ही डीपीओ ने बताया कि सेविका तथा अन्य आईसीडीएस के लोगों के माध्यम से जो गुणवत्ता पूर्ण कामा किये गए है उसे जिले मे कुपोषण दर मे कमी आयी गी! नवजात बच्चों के संपूर्ण विकास को सुनिश्चित करने के लिए विटामिन, मिनरल्स, कैल्शियम, आयरन, वसा और कार्बोहाइड्रेट जैसे पोषक तत्वों से भरपूर संतुलित आहार देना बहुत महत्वपूर्ण होता है।