Thu. Oct 29th, 2020

म्यांमार में सित्तवे पोर्ट डेवलप कर रहा भारत, चीन परेशान

Share this News

चीन (China) की दक्षिण एशिया में बढ़ती दादागिरी के मद्देनज़र अब भारत ने भी पड़ोसी देशों के साथ रिश्तों और मजबूती के नए मुकाम तक ले जाना शुरू कर दिया है. इसी क्रम में क्वाड (Quad) संगठन के बाद अब भारत चाबहार (Chabahar Port) के तर्ज पर म्यांमार (Myanmar) के सित्तवे पोर्ट (Sittwe port) को भी विकसित कर रहा है. इस पोर्ट से भारत के पूर्वोत्तर राज्यों से संपर्क पहले के मुकाबले और मजबूत हो जाएगा. इस पोर्ट की मदद से मिजोरम और मणिपुर समेत पूर्वोत्तर के अधिकतर राज्यों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा. यह पोर्ट म्यांमार के राखाइन राज्य में स्थित है।

मिली जानकारी के मुताबिक यह पोर्ट साल 2021 के पहले तीन महीनों में चालू हो जाएगा. म्यांमार में भारत सित्तवे पोर्ट के अलावा सित्तवे और Paletwa में अंतर्देशीय जलमार्ग परिवहन टर्मिनल का भी निर्माण कर रहा है. इस परियोजना को मई 2017 में मंजूरी दी गई थी. जिसकी लागत 78 मिलियन डॉलर आंकी गई है. इस पोर्ट को संचालित करने वाली एजेंसी ने एक फरवरी 2020 से संचालन का जिम्मा भी संभाल लिया है. विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने गुरुवार को म्यामांर की दो दिवसीय यात्रा के दौरान कहा कि कोरोना महामारी के बावजूद हम अगले वर्ष की पहली तिमाही तक सित्तवे पोर्ट पर ऑपरेशन शुरू कर देंगे. इस पोर्ट से आगे स्थित Paletwa से लेकर भारतीय बॉर्डर तक एक हाईवे का निर्माण भी किया जा रहा है. इस हाईवे पर बनने वाले 69 पुलों के बारे में भारतीय विदेश सचिव ने कहा कि इससे लिए हम जल्द ही टेंडर प्रक्रिया को आगे बढ़ाने वाले हैं.

 

जनरल नरवणे, श्रृंगला ने सू ची से मुलाकात कीभारत के सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने सोमवार को म्यांमार की नेता आंग सान सू ची से मुलाकात की और सीमा क्षेत्रों में सुरक्षा एवं स्थिरता के रखरखाव सहित कई ‘महत्वपूर्ण’ द्विपक्षीय मुद्दों को लेकर चर्चा की. जनरल नरवणे और श्रृंगला ने म्यांमार के शीर्ष जनरल मिन आंग से भी मुलाकात की और द्विपक्षीय महत्व वाले मुद्दों पर वार्ता की. जनरल नरवणे और श्रृंगला रविवार को दो दिन की म्यामां यात्रा पर पहुंचे, जिसका उद्देश्य रक्षा और सुरक्षा समेत अनेक क्षेत्रों में संबंधों का और विस्तार करना है.