Sat. Oct 31st, 2020

सोशल डिस्टेंसिंग उल्लंघनऔर कुव्यवस्था का हब बन गया है डॉक्टरों की निजी क्लीनिक

Share this News

सोशल डिस्टेंसिंग उल्लंघनऔर कुव्यवस्था का हब बन गया है डॉक्टरों की निजी क्लीनिक

बी.बी.एन-डेक्स

बिहार की शिक्षा व्यवस्था की हकीकत जग जाहिर है। कोरोना काल में इसकी स्थिति बद से बदतर हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय एवं राज्य सरकार के दिशा निर्देश के बाद कोरोनावायरस महामारी का पूरी तरह उल्लंघन सारण जिले में देखने को मिल रहा है। शिक्षा व्यवस्था के साथ-साथ स्वास्थ्य की बदहाली आज बिहार की स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे की विकास की पोल हर रोज खोल रही है।बात करें छपरा शहर के भगवान बाजार रोड भरत मिलाप चौक के पास ईएनटी चिकित्सक डॉक्टर एस०एम मुस्ताक जिसके क्लीनिक पर सोशल डीसेंसी की धज्जियां का लगातार माखौल उड़ाया जा रहा है। रोगियों एवं परिजनों को बैठने के किसी प्रकार की व्यवस्था नहीं है। सड़क किनारे क्लीनिक भी जिला प्रशासन की व्यवस्था एवं नजर पर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर रहा है। डॉक्टर मुस्ताक केवल ऐसे चिकित्सक नहीं है जिनका क्लीनिक मानक क्षमता के अनुरूप हो

। वैसे चिकित्सकों में प्रसिद्ध डॉक्टर रामबाबू सिन्हा, जय कुमार सिंह ,टी पी यादव, खुद छपरा के वर्तमान विधायक डॉ सी एल गुप्ता की RR लैबोरेट्री आवश्यक मानकता के दायरे से परे है। जिसकी तरफ सारण जिला अधिकारी ,पुलिस अधीक्षक की नजर एक बार भी नहीं पड़ती। उक्त जानकारी एआईएसएफ के राज्य पार्षद अमित नयन ने दी। उन्होंने आक्रोश प्रकट करते हुए कहा कि जिले के चिकित्सक आम जनता के खून को चुसने का कार्य कर रहे हैं। बेहिसाब एवं मनमाफिक परामर्श शुल्क ले गरीब गुरबों को शोषित करने का कार्य कर रहे हैं। उनके यहां मरीजों एवं उनके परिजनों को बैठने के लिए किसी प्रकार की व्यवस्था करने में वे असफल हुए हैं ना ही पेयजल की व्यवस्था इन निजी क्लीनिक ओ के चिकित्सकों के यहां उपलब्ध है। हम जिला प्रशासन से मांग करते हैं कि इसे संज्ञान में लेते हुए आम जनों के हित में डॉक्टरों की मनमाफिक परामर्श शुल्क एवं उनके यहां के कुव्यवस्था को दूर करने के लिए अनुशासनात्मक करवाई करने की कृपा करें।
निवेदक अमित नयन राज्य पार्षद एआईएसएफ बिहार