Sat. Jan 16th, 2021

क्या जेपीयू के इन छात्रों का हुआ भविष्य बर्बाद क्या फिर से कराना होगा नामांकन

Share this News

क्या जेपीयू के इन छात्रों का हुआ भविष्य बर्बाद, क्या फिर से कराना होगा नामांकन

बी.बी.एन-डेस्क

सारण छपरा में जब जयप्रकाश विश्वविद्यालय का स्थापना किया गया होगा तो लोगों को यह लगा होगा कि अब हमारे बच्चों को ऊंची शिक्षा के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा उन्हें क्या पता कि यहां 6 साल में भी डिग्री नहीं मिलेगा। जय प्रकाश बाबू की आत्मा इस बात से कराह उठती होगी कि हमारे नाम पर महाविद्यालय बनवाकर छात्रों का भविष्य बर्बाद किया जा रहा है। भोजपुरी का एक मशहूर शायरी है की नहाना है तो बीच दरिया में नहाओ किनारा में क्या रखा है में क्या रखा है} बात तो आप समझ ही गए होंगे। दरअसल मेरा कहना जेपी यूनिवर्सिटी के ऊपर है कि पढ़ना है तो किसी दूसरे जगह जाकर पढ़िए और भविष्य बर्बाद करना है तो आराम से जयप्रकाश विश्वविद्यालय में नामांकन करा लीजिए। यहां पर सिर्फ और सिर्फ बच्चों का भविष्य बर्बाद किया जाता है और कुछ नहीं। कुछ लोगों लोगों को यह पढ़कर बुरा लगेगा मगर यही हकीकत है अगर आप किसी दूसरे जगह के छात्र से कहिए गा कि हमारे यहां यूनिवर्सिटी BA/BSC 6 साल में कराती हैं तो वो आप पर हसेगा और आपको मूर्ख समझेगा जबकि

हकीकत यही है। लेकिन जब आप उसको कहिए गा की 6 साल में भी सर्टिफिकेट मिलेगा कि नहीं इसकी कोई गारंटी नहीं है तो पक्का आपको पागल समझेगा। चलिए अब हम उन हजारों छात्रों के बारे में बात करेंगे जिनका 2 दिनों के अंदर भविष्य पूर्णता बर्बाद होने वाला है। और उनको फिर से नामांकन करा करके पढ़ना पड़ेगा उनसे मेरा सुझाव है। कि भारत के किसी भी विश्वविद्यालय में नामांकन करा लेना लेकिन आप जेपी यूनिवर्सिटी के चक्कर में ना पड़े नहीं तो जिस तरह आपका बीता हुआ 5 साल बर्बाद हुआ उसी तरह आने वाला 10 साल भी बर्बाद हो सकता है इसकी कोई गारंटी नहीं है कि आने वाले समय मे आपको सर्टिफिकेट मिल जाए। आपको बता दें कि कुछ छात्रों का मेरे पास कॉल आया उसके बाद हमने खुद अमनौर कॉलेज में जाकर बातचीत की तो वहां 2015-18 के कुछ छात्र छात्रों का फॉर्म जमा नहीं लिया जा रहा था। हमने छात्रों से बात की तो हमें मालूम हुआ कि यह ये वो

छात्र है जो जिन का रिजल्ट पार्ट 2 में पेंडिंग या प्रोमोट हो गया था। तथा इनका पार्ट 3 क्लियर है।अब यह पार्ट टू का परीक्षा देना चाहते हैं लेकिन इन्हें फॉर्म भरने से रोका जा रहा है क्योंकि कॉलेज प्रशासन की तरफ से कहा जा रहा है कि आपका रजिस्ट्रेशन का समय 5 साल ही था जो कि अब खत्म हो गया है। जबकि इसमें छात्रों का क्या दोष है यह महाविद्यालय प्रशासन ही बताएगा 3 साल की परीक्षा 5 साल में क्लियर नहीं हो रहा है तो परीक्षार्थी क्या करेंगे? इसके बाद हमने खुद अमनौर कॉलेज में जाकर बातचीत की तो यह कहा गया कि आप यूनिवर्सिटी में जाकर मिलिए शायद कुछ हो जाए हमारे यहां इसकी कोई जानकारी नहीं है। छात्रों ने बताया कि कॉलेज प्रशासन से हमें यह कहा जा रहा है कि अब इसमें कुछ नहीं हो सकता आप को फिर से नामांकन करा कर पढ़ना पड़ेगा अब जाहिर सी बात है कि ऐसा केस सभी कॉलेजों में होगा तो इन छात्रों का क्या होगा जिनका पिछले 5 साल तो बर्बाद हुआ अब कॉलेज प्रशासन की कमी के कारण महाविद्यालय के द्वारा परीक्षा नहीं कराने पर इनका भविष्य बर्बाद हो रहा है इसका जिम्मेदार कौन होगा इसको लेकर के हमने कई छात्र नेता को भी कॉल किया उनके द्वारा किसी प्रकार का जवाब नहीं मिला। ऐसे में यह छात्रों को कुछ समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करें और कैसे करें। फॉर्म जमा करने की अंतिम तिथि 30 नवंबर तक दी गई है। इस कारण छात्रों की परेशानी और बढ़ गई है कि 1 दिन के समय में वह क्या और कैसे करें कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है।

इसके बाद एक बात और आपको बताना चाहते हैं कि वैसे छात्र जो पार्ट 2 और पार्ट 3 दोनों में प्रमोटेड है तो उनका भी परीक्षा शायद अब नहीं लिया जाएगा। क्योंकि उन्हें परीक्षा देने में ही 5 साल से अधिक समय लग जाएगा तब महाविद्यालय के तरफ से उन्हें भी परीक्षा देने का मौका नहीं मिलेगा ऐसे में चाहिए कि सभी छात्र एकजुट होकर के अपने हक की आवाज उठाएं तभी उनकी परीक्षा हो पाएगी अन्यथा उन्हें फिर से 5 साल इंतजार करना पड़ेगा।