Mon. Nov 30th, 2020

विकारों का अंधकार नष्ट करने के लिये जरूरी है ज्ञान ब्रह्मचारणी बहनें

Share this News

विकारों का अंधकार नष्ट करने के लिये जरूरी है ज्ञान  ब्रह्मचारणी बहनें

बी.बी.एन-डेक्स

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय चैनपुर में एक दिवसीय आजीवन ब्रह्मचारिणी कन्या पूजन महोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें आजीवन परमात्मा को समर्पित कर चुकी श्रेष्ठ बहनों को उनके श्रेष्ठ कर्मों वचनों तथा उनके मार्गदर्शन का पूजन किया गया।
ब्रम्हकुमारी चैनपुर केंद्र की ओर से सुधा बहन तथा अन्य बहनों को रेनू माता ने चुनरी ताज तथा माला पहना के स्वागत किया।
ब्रह्माकुमारी सुधा बहन ने नवरात्र का आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए कहा कि सिद्धि और साधना की दृष्टि से शारदीय नवरात्र को ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है। यह आध्यात्मिक और मानसिक सशक्तिकरण का विशेष पर्व है नवरात्र में अखंड दीपक, व्रत, जागरण का बहुत महत्व है नवरात्र में तामसिक भोजन का सेवन वर्जित रहता है, क्योंकि इनके सेवन से शरीर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। इस समय मौसम का भी परिवर्तन होता है, इसलिए वैज्ञानिक दृष्टि से उपवास को महत्वपूर्ण माना गया है। ऐसे ही वर्तमान समय सृष्टि परिवर्तन का समय चल रहा है। सृष्टि कलयुग से सतयुग की ओर जा रही है, इसलिए आसुरी शक्तियां भी चरम सीमा पर है। इनसे बचने का एक मात्र उपाय है व्रत विकाराें काे खत्म करने के लिये ज्ञान की राेशनी बढ़ाएंजागरण का महत्व बताते हुए बहन ने आगे कहा वर्तमान सृष्टि रूपी घड़ी करीब रात के 12 बजे अर्थात परिवर्तन का समय दिखा रही है। कलयुग के अंत में परमात्मा शिव का इस धरा पर दिव्य और अलौकिक अवतरण हो चुका है।वे हमें अज्ञान निद्रा से जगा रहे हैं। जितना ज्ञान की रोशनी हमारे में बढ़ती जाएगी, विकारों का अंधकार खत्म होता जाएगा। मौके पर जयप्रकाश सोनी रामपुकार मुखिया रमेश भाई, गौतम यादव, रेनू माता,रवि कुमार सोनी,अमित सोनी, रिंकी बहन अनिल भाई समेत कई उपस्थित थे।