Sat. Feb 27th, 2021

जे.पी.एम महाविद्यालय में सुभाष चंद्र बोस की जयंती पराक्रम दिवस के रुप में मनी

Share this News

जे.पी.एम महाविद्यालय में सुभाष चंद्र बोस की जयंती पराक्रम दिवस के रुप में मना

बी.बी.एन-डेस्क

जयप्रकाश महिला महाविद्यालय छपरा में 23 जनवरी 2021 की सुभाष चंद्र बोस की जयंती पराक्रम दिवस के रुप महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. मधु प्रभा सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई तथा एक विचार गोष्ठी का सफल आयोजन किया गया। कार्यक्रम नका शुभारंभ महाविद्यालय की प्रधानाचार्य ने माल्यार्पण कर किया और सभी शिक्षकों द्वारा सुभाष चंद्र बोस को पुष्पांजलि अर्पित की।तत्पश्चात छात्राओं द्वारा आजाद हिंद फौज का गीत गाया गया। डॉ. मधु प्रभा सिंह ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि देश प्रेम और पराक्रम के प्रतीक सुभाष चंद्र बोस प्रगतिशील विचारों के पक्षधर रहे हैं। उन्होंने कहा कि “तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा” के नारे को भारत का हर एक बच्चा- बच्चा आज भी पहचानता और जानता है और उनके पराक्रम और वीरता को संपूर्ण भारत नमन करता है। प्राचार्य ने ‘स्वतंत्रता स्वयं से ली जाती है किसी से मांगी नहीं जाती’ सुभाष चंद्र बोस के इस कथन को याद दिलाते हुए छात्राओं में अपनी स्वतंत्रता और कर्तव्य के विषय में सजग रहने को कहा। राजनीति विज्ञान विभाग की डॉ. शबाना परवीन मल्लिक ने सुभाष चंद्र बोस के संपूर्ण जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनका परिचय दिया। इतिहास विभाग के डॉ. चंदन ने भी उनके जीवन के अनछुए पहलुओं पर विचार करते हुए उनकी वीरता और पराक्रम के विषय में बताया, उर्दू विभाग की डॉ. अलीना अली मलिक ने भी उनके समग्र जीवन को युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत बताया, राजनीति विज्ञान विभाग की डॉ.

रिंकी सिंह ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर आधारित गोपाल प्रसाद व्यास द्वारा रचित कविता ‘खूनी हस्ताक्षर’ प्रस्तुत किया, जिसे सुन सभी भाव विभोर हो गए। छात्राओं में 11वीं की संजना ने नेताजी के व्यक्तित्व पर अपने विचार अभिव्यक्त किए।
कार्यक्रम का संचालन राजनीति विभाग की डॉ सोनाली सिंह के द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में महाविद्यालय के सभी शिक्षकगण डॉ. रेखा श्रीवास्तव, डॉ. अंबिका श्रीवास्तव, डॉ. अर्चना सिन्हा, सुश्री नम्रता, डॉ. बबीता वर्धन, डॉ नीतू सिंह, डॉ. मंजू कुमारी सिंहा, डॉ. अमरेंद्र, प्रो सनोज, प्रो मुग्धा और प्रो पूनम उपस्थित रहें। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में पूरे महाविद्यालय परिवार की सराहनीय भूमिका रही।