Mon. Sep 26th, 2022

सुपौल- जितिया पर्व में एक साथ चार परिवार ने खोया अपना पुत्र पुलिस-पब्लिक टकराव के बाद शहर में परसा था सन्नाटा लोगों को युवकों की हत्या की आशंका

Share this News

सुपौल- जितिया पर्व में एक साथ चार परिवार ने खोया अपना पुत्र
पुलिस-पब्लिक टकराव के बाद शहर में परसा था सन्नाटा
लोगों को युवकों की हत्या की आशंका

वीरपुर-भीमनगर पथ पर एक नर्सिंग होम के पास शनिवार की रात हुए सड़क हादसे में चार युवकों की मौत के बाद रविवार को साढ़े 11 बजे दिन में वीरपुर थाना के पास जमकर बवाल हुआ। दुर्घटना में वीरपुर नगर पंचायत के वार्ड 10 निवासी रवि कार्की (20), रितिक (22), रोहित थापा (21) व वार्ड 13 निवासी रोहित ठाकुर (21)की मौत हो गई थी। हादसे के बाद आक्रोशित महिलाओं से झड़प होने पर पुलिस ने लाठियां चला दी। इसके बाद उग्र भीड़ ने पत्थरबाजी शुरू कर दी।

इस दौरान एसडीपीओ पंकज कुमार मिश्रा को पत्थर लगने पर पुलिस ने भीड़ पर आंसू गैस छोड़े और लाठीचार्ज कर दिया। इसमें आधा दर्जन लोग चोटिल हो गए। पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मी और मीडियाकर्मी के साथ-साथ अन्य को भी चोटें आयी हैं। पथराव में थाना परिसर में लगे कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए। घटना के बाद पुलिस और एसएसबी ने शहर की नाकेबंदी कर सर्च ऑपरेशन चलाया। इस दौरान एक दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस द्वारा कोसी कॉलोनी व उसके आसपास भी छापेमारी की गई। डीएम कैशल कुमार ने बताया कि कुछ लोगों ने माहौल खराब किया, जिससे टकराव की स्थिति बनी। सीसीटीवी की जांच की जा रही है। हंगामे में जिनकी भूमिका होगी वे बख्शे नहीं जाएंगे। आक्रोशित भीड़ को हटाने के लिए आंसू गैस छोड़ गए। कोई गोली नहीं चली है।

मेला देखकर लौट रहे थे चारों दोस्त

शनिवार की रात 9.30 बजे कटैया पावर हाउस से मेला देखकर चारों दोस्त अपने घर लौट रहे थे। इसी दौरान एक नर्सिंग होम के पास चारों युवक बाइक खड़ी कर बात कर रहे थे तभी तेज रफ्तार स्कॉर्पियो ने उन्हें रौंद दिया। सदर अस्पताल में डॉक्टर ने सभी को मृत घोषित कर दिया। वहीं जानकारी पर मृतकों के परिजन वहां पहुंचे। चारों युवकों को अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती नहीं कराकर सदर अस्पताल भेजने की बात पर लोगों का गुस्सा भड़क उठा। लोगों का कहना था कि यदि चारों को अनुमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया जाता है तो किसी एक की जान बच सकती थी। इस दौरान लोगों ने कुछ देर हंगामा भी किया।

लोगों को युवकों की हत्या की आशंका, बाजार बंद
रविवार की सुबह छह बजे एक बार फिर आक्रोशितों ने बांस-बल्ला लगा रोड जाम कर दिया। लोगों का आरोप था कि शव जिस स्थिति में मिले हैं,उससे सभी की हत्या की आशंका है। इस दौरान लोगों ने बाजार की दुकानें भी बंद कर दी। कुछ लोगों ने थाना के गेट के पास पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। मामले की गंभीरता के देख एसडीएम कुमार सत्येंद्र यादव, एसडीपीओ पंकज कुमार मिश्रा वहां पहुंचे।

जाम से आवागमन घंटों रहा बाधित

वीरपुर। घटना को लेकर अक्रोशित लोगों ने झील के पास भारी वाहनों को सड़क पर लगाकर जाम कर दिया। सुबह 6 बजे शुरू हुआ जाम दोपहर 2 बजे तक बाधित रही। इस दौरान आसपास के थाने से पुलिस बुला लिए गए। पूरा नगर छावनी में तब्दील हो गया। एसएसबी और पुलिस की संयुक्त टीम ने भी कॉलोनी और नगर में छापेमारी अभियान चलाया। लगभग एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया है।

वीरपुर-भीमनगर मार्ग में नर्सिंग होम के पास शनिवार की रात सड़क हादसे में चार युवकों की मौत के बाद रविवार की सुबह लोगों का गुस्सा भड़क उठा। आक्रोशित लोगों ने गोल चौक पर बांस-बल्ला लगा व टायर जला आवागमन बाधित कर दिया। लोगों ने बाजार को भी बंद करा दिया। गोल चौक इस दौरान आक्रोशित लोग पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। लगभग पांच घंटे तक गोल चौक रणक्षेत्र में तब्दील रहा।

लोगों का कहना था कि यह दुर्घटना नहीं हत्या है, जिसकी जांच होनी चाहिए। कहा कि मृतकों के सिर्फ सिर में ही चोट है शरीर के किसी भी हिस्से में कहीं चोट के निशान नहीं हैं। पुलिस हत्या को दुर्घटना का शक्ल देने में लगी है। लोगों का गुस्सा भड़क उठा। इस दौरान कुछ लोग थाना गेट के पास पहुंच कर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। थाना के पास महिलाओं के साथ पुलिस से हाथापाई हो गई। लोगों का गुस्सा भड़क उठा और पत्थर बरसाने लगे। थाना परिसर में खड़े एसडीपीओ पंकज मिश्रा सहित तीन पुलिसकर्मी पत्थरबाजी में घायल हो गए।

आठ घंटे तक बाजार रहा बंद वीरपुर बाजार में लगभग आठ घंटे तक बंद रहा। बाजार बंद रहने से आम लोगों को जितिया के पर्व के दिन काफी परेशानी झेलनी पड़ी। गोल चौक से लेकर पुरानी गुदरी बाजार तक सन्नाटा पसरा था। दुकाने बंद थी और लोग घर से बाहर नहीं निकल रहे थे। होटल और दवा की दुकानें बंद होने से लोगों को दिक्कतें झेलनी पड़ी। वीरपुर आने वाली बसें वीरपुर-भीमनगर पथ के बीच ही रूक जा रहीं थी और बस में सवार यात्रियों को पैदल ही जाना पड़ रहा था।

सुबह से ही वीरपुर का माहौल हो गया था गर्म

वीरपुर। गोल चौक पर रविवार सुबह से ही पुलिस के साथ हुई टकराव के बाद माहौल गर्म हो गया। भीमनगर ओपी, प्रतापगंज थाना, बलुआ, वीरपुर थाना पुलिस, त्रिवेणीगंज एसडीपीओ गणपति ठाकुर, वीरपुर एसडीपीओ पंकज कुमार मिश्रा, एसडीएम वीरपुर कुमार सत्येंद्र यादव, बसंतपुर आरडीओ कुमार मनीष भारद्वाज, पुलिस इंपेक्टर केबी सिंह और जिला से आए पुलिस बल ने मोर्चा संभाल लिया। कुछ पुलिस वालों को चोट लगी थी।, जिससे पुलिस गुस्से में थी।

घटनास्थल से मिला वाहन का व्हील कैप पुलिस

दुर्घटना में मारे गए रवि कार्की, रितिक कुमार, रोहित कुमार थापा और रोहित कुमार ठाकुर एक बाइक से कटैया पावर ग्रिड के विश्वकर्मा पूजा मेला से घर लौट रहे थे। थानाध्यक्ष दीनानाथ मंडल ने बताया कि चारों युवकों की एक बाइक दुर्घटना स्थल पर खड़ी मिली है, जिससे पता चलता है कि ये लोग सड़क पर खड़े थे तब एक तेज रफ्तार वाहन की चपेट में आ गए। दुर्घटना स्थल से पुलिस ने चक्के का व्हील कैप बरामद किया है। एसडीएम और एसडीपीओ ने कहा कि कानून हाथ में लेने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। सर्च ऑपरेशन चलाकर इस कांड में संलिप्त लोगों को गिरफ्तार किया जायेगा।

पुलिस व एसएसबी ने चलाया सर्च अभियान

जब आंदोलनकारियों ने थाना पर पथराव शुरू कर दिया तो पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए एसएसबी से मदद मांगी। इसके बाद एसएसबी के कमांडेंट आलोक कुमार एसएसबी जवानों के साथ थाना पहुंचे तो एसडीएम कुमार सत्येंद्र यादव, एसडीपीओ पंकज कुमार मिश्र और आरडीओ मनीष कुमार भारद्वाज के नेतृत्व में पुलिस और एसएसबी की टीम सर्च ऑपरेशन में लग गयी। वीडियो फुटेज के आधार पर एसएसबी और पुलिस की टीम ने सड़क और आसपास के इलाकों में सर्च ऑपरेशन चलाया। इसमें लगभग एक दर्जन से अधिक लोगों को पकड़ा गया।