Thu. Sep 16th, 2021

नन्द लाल सिंह महाविद्यालय में मना हिन्दी दिवस महोत्सव

Share this News

नन्द लाल सिंह महाविद्यालय में मना हिन्दी दिवस महोत्सव

B.B.J-DESK

हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में नंद लाल सिंह महाविद्यालय, जैतपुर-दाउदपुर (सारण) में 14 सितम्बर, 2021 को ‘हिन्दी दिवस महोत्सव’ मनाया गया। हिन्दी विभाग की ओर से प्राचार्य प्रो. के. पी. श्रीवास्तव की अध्यक्षता में ‘हिन्दी की वर्तमान चुनौतियाँ’ विषय पर विचार-गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के संयोजक सह संचालक डॉ. दिनेश पाल विचार-गोष्ठी का विषय पर्वतन करते हुए हिन्दी भाषा तथा साहित्य के विकास पर विस्तार से चर्चा करते हुए हिन्दी की वर्तमान चुनौतियों को बिंदुवार गिनाया। अध्यक्षीय संबोधन में प्राचार्य प्रो. के. पी.

श्रीवास्तव ने कहा कि हमारी हिन्दी इतनी समृद्ध है कि वह सभी चुनौतियों को चकनाचूर करते हुए आगे बढ़ती चली जायेगी। आज विदेशों में हिन्दी पढ़ाई जा रही है। उन्होंने आगे कहा कि हिन्दी हमारी मातृभाषा है और हम उसी में जीते हैं। हिन्दी में हर विषय की किताबें पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होनी चाहिए। डॉ. आफ़ताब आलम ने कहा कि चुनौतियों का सामना करते हुए हम अपना मार्ग प्रशस्त करते हैं। हमारी हिन्दी हर भाषा के शब्दों को अपने में समाहित करने की क्षमता रखती है। डॉ श्री कमलजी ने हिन्दी भाषा के विकास पर विस्तार से अपनी बात रखते हुए बताया कि हिन्दी भारोपीय परिवार की भाषा है। हिन्दी का कलेवर विशाल है और इसकी शक्ति अद्भुत है। हिन्दी भाषा अपनी भाव-शक्ति, विचार-शक्ति एवं

अभिव्यक्ति शक्ति के लिए जानी जाती है। हिन्दी भाषा भारतीय संस्कृति की वाहिका है। अंग्रेजी विभाग के श्री राकेश कुमार ने कहा कि किसी संस्कृति व देश को नष्ट करना हो तो उसकी भाषा को नष्ट कर दो और अंग्रेजों ने यही करने की कोशिश की थी। डॉ. श्री भगवान ठाकुर ने अपने वक्तव्य में बताया कि अनुवाद करने वाले कई बार हिन्दी का उपहास कराते हैं, ऐसा कई बार प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्न-पत्रों में देखने को मिलता है। डॉ. रूबी चंद्रा ने अपने वक्तव्य में कहा कि विज्ञान- प्रौद्योगिकी हमें चाहे जितना भी रोजगार दिला दे, लेकिन सभ्य-समाज के लिए साहित्य बहुत जरूरी है। खुशबू, प्रियंका, सपना, ज्योति, राहुल, स्वाति, अमित एवं बीरू आदि विद्यार्थियों द्वारा भी

 

अपने विचार को व्यक्त किया गया। कार्यक्रम में डॉ. जी. डी. राठौड़, श्री स्वर्गदीप शर्मा, डॉ. आशीष कुमार, डॉ. सुनील कुमार सिंह, डॉ. इंदु, श्री रमेश कुमार रजक, श्री मनोज कुमार, वसीम रजा, मुस्तईज आलम, सुभाष कुमार, डॉ. आशीष प्रताप सिंह, श्री मृत्युंजय सिंह, श्री संजय सिंह, श्री आलोक सिंह, श्री राजीव सिंह, श्री चारू उराँव, श्री राजकुमार राउत एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।