Tue. Oct 26th, 2021

कार्यकाल के अंतिम दिनों में कुलपति ने शेयर किए खट्टे मीठे अनुभव

Share this News

कर्मचारियों के बाहर बैठाने के मामले में काट गए कन्नी

जेपीयू के कुलपति ने खुलकर स्वीकार की विश्वविद्यालय की कमियां

जयप्रकाश विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ हरिकेश सिंह के कार्यकाल 3 वर्ष पूरे होने में मात्र 13 दिन शेष रह गए हैं। अपने 3 वर्षों के कार्यकाल के खट्टे मीठे अनुभव को कुलपति ने प्रेस वार्ता के क्रम में मीडिया कर्मियों के सामने उजागर किया। कुलपति ने स्पष्ट रूप से कहा कि जब से इस विश्वविद्यालय की स्थापना हुई प्रबंधन के उत्साह में कहीं न कहीं कमी जरूर रही । उन्होंने वार्ता के क्रम में कहा कि एक अच्छी बात यह है कि मैंने बहुत से विश्वविद्यालय का भ्रमण किया लेकिन किसी भी विश्वविद्यालय के पास जयप्रकाश विश्वविद्यालय के जितना जमीन उपलब्ध नहीं है। जेपीयू के पास 240 एकड़ जमीन है । लेकिन इसके प्रबंधन के उत्साह में कमी रही। उन्होंने कहा कि 14 दिन बाद मेरे 3 वर्षों का कार्यकाल पूरा करने जा रहा हूँ। जब मैं विश्वविद्यालय में कुलपति के पद पर आसीन हुआ, स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर के सभी सत्र विलंब से चल रहे थे। छात्रों के रजिस्ट्रेशन एवं नामांकन में काफी गड़बड़ियां थी। उसके बावजूद मैंने 65 परीक्षाएं अभी तक करा डाली जो एक रिकार्ड है। और दो 16 जनवरी से शुरू होने जा रहे हैं जो स्नातक तृतीय वर्ष सत्र 2015-18 एवं 2016-19 के हैं। दुर्भाग्य है कि समय से यहां की परीक्षाएं नहीं हो रही थी मैंने एक प्रयास किया जिसमें अभिभावकों एवं छात्रों ने भी सहयोग किया। कदाचार रोकने के मामले में भी अभिभावक और छात्रों ने सहयोग किया । इस मामले में कुलपति ने एक टीवी सीरियल का चर्चा करते हुए बताया कि उसमें पात्र यह कह रहा है कि मैं छपरा विश्वविद्यालय का पढ़ा हूं, खासकर यह बात कदाचार के मामले में उन्होंने कहा और साथ में यह भी कहा कि मैंने कदाचार रोकने का प्रयास किया। जिसमें छात्र, अभिभावक एवं परीक्षा में वीक्षण कार्य करने वाले कर्मचारियों ने भी खुलकर साथ दिया। विश्वविद्यालय के रूप में इस विश्वविद्यालय को कलंकित भी होना पड़ा लेकिन मैंने परीक्षाओं को जो कराया इससे थोड़ा संतोष है और अब करीब करीब सब बैकलॉग या पेंडिंग परीक्षाएं खत्म हो गई है तथा जयप्रकाश विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर स्तर पर 3 सत्र के छात्र प्रवेश लेंगे जो 2018-20, 2019-21 और 2020-22 के होंगे जिसमें चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम का विकल्प छात्रों को खुला रहेगा। शिक्षकों की कमी भी अब जयप्रकाश विश्वविद्यालय के पास अब नहीं रही क्योंकि कुछ शिक्षक बीपीएससी से आए तथा कुछ शिक्षक अतिथि शिक्षक के रूप में नियुक्त हुए जिससे अब शिक्षकों की कमी नहीं रही। हाँ कमी है कि छात्र पढ़ने के लिए नही आते। कुलपति ने यह भी कहा कि हमने एकलव्य और तरंग प्रतियोगिताएं शुरू कराई तथा महात्मा गांधी की 125 वीं जयंती के अवसर पर जेपीयू के नाम पर जेपीयू वैज्ञानिक मानस समृद्धि दृष्टिकोण का कोर्स शुरू कराने का प्रयास किया जिसमें लोगों को यह बताना था कि जादू टोने भूत प्रेत इत्यादि कुछ होते नहीं। इसको वैज्ञानिक तरीके से बताने का काम किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय में हमने यह प्रयास किया है कि एमबीए ,बीसीए, बीबीए ,एमसीए ,पत्रकारिता, एलएसडब्ल्यू, लॉ जैसे कुल 8 विषयों को शुरू कराया जाए, जिस पर मैंने काफी कार्य कर दिया है और आने वाले कुलपति को इसमें सुविधा होगी। कुलपति ने यह भी कहा कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय में जयप्रकाश जी की प्रतिमा स्थापना के लिए मैंने प्लेटफार्म तैयार करा दिया एवं उनकी मूर्ति भी मंगा कर के रखी है। इस पर मैं संतोष अनुभव करता हूं कि कम-से-कम विश्वविद्यालय परिसर में उनकी मूर्ति तो स्थापित हो जाएगी। उन्होंने कहा कि जेपी की मूर्ति स्थापना हमारे जाते-जाते हमारे लिए संतोष होगा कि मैंने यह भी कार्य कराया। फिर उन्होंने डिग्रियों की छपाई पर कहा कि पहले 55 रूपये एक डिग्री की छपाई में लगते थे 20000 विद्यार्थियों के डिग्री छपवाने में एक करोड़ से ज्यादा का खर्च होता था ।अब मात्र एक डिग्री मात्र 4 .80 रूपये में छपती है। इसके साथ ही 100 छात्राएं एवं 100 छात्रों के लिए होस्टल निर्माण के लिए भी मैंने कार्य किया है। छात्र संघ चुनाव के बारे में कुलपति डॉ हरिकेश सिंह ने कहा कि पहले के छात्रसंघ चुनाव को विधायक के उपचुनाव के कारण स्थगित करना पड़ा क्योंकि विश्वविद्यालय एरिया में यदि इस तरह के चुनाव होते हैं तो छात्र संघ के चुनाव को नहीं कराया जा सकता। अभी के चुनाव के स्थगित करने के बारे में उन्होंने बताया कि जिन 44 बिंदुओं का हवाला दिया गया और जो हमारे ऊपर दबाव बनाया गया उस दबाव के सामने में झुकने वाला नहीं था। हमारे ऊपर बहुत ज्यादा राजनीतिक दबाव डाला गया लेकिन मैंने चुनाव राजनीतिक दबाव से स्थगित नहीं किया। विश्वविद्यालय के एक बिंदु पर कमी रह गई थी जिसके चलते मैंने चुनाव स्थगित किया । उन्होंने छात्र संघ के बारे में भी कहा कि कहीं भी चुनाव प्रक्रिया में यह नहीं लिखा गया है कि मात्र स्कूटनी हो जाने से और एक ही उम्मीदवार के रहने से वह विजयी हो गया तथा मिठाई बांटना शुरू कर दिया यह सब चीज चुनाव प्रक्रिया में नही होती है। कुलपति ने कहा कि आठ स्नातकोत्तर के विषयों को रेगुलर कराना है जिसके लिए मैंने कार्य कर दिया है और वो हो ही जाएगा अभी हमारा 13 दिन का कार्यकाल शेष है। शोद्याार्थियों के बारे में प्रश्न करने पर की पाँच पाँच वर्षो से शोद्यार्थी भटक रहे हैं और उनके शोध पत्र पर कोई खास काम नहीं हो पा रहा है तो उन्होंने कहा कि जब कोई शोद्यार्थी हमसे भेंट करता है या मोबाइल वार्ता करता है तो उसकी फाइलें निकलवा कर मैं उसके ऊपर कार्य करवाता हूँ। उन्होंने स्पष्ट रूप से इस बात को स्वीकार किया कि शोध विभाग में कहीं न कहीं शोधार्थियों के साथ लूट खरसोट का मामला जरूर है। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि मैं 3 वर्षों से विश्वविद्यालय को समझने का प्रयास कर रहा हूँ। यह पूछे जाने पर कि कुछ कर्मचारियों को नौकरी से बैठा दिया गया है और वे बाहर घूम रहे हैं ,तो इस पर कुलपति कन्नी काट गए और उन्होंने कहा कि जो मामला हाईकोर्ट में लंबित है उसके ऊपर मैं कुछ नहीं कहना चाहता हूँ। इस प्रेस वार्ता में कुलपाति डॉ हरिकेश सिंह के साथ प्रतिकुलपति डॉ ए के झा, कुल सचिव कैप्टन कृष्ण कुमार , परीक्षा नियंत्रक डॉ अनिल कुमार ,पी आर ओ डॉ राकेश प्रसाद एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।