Fri. Jan 21st, 2022

चाइल्ड केयर में रह रहे किशोर किशोरियों का प्राथमिकता के आधार पर होगा टीकाकरण

Share this News

चाइल्ड केयर में रह रहे किशोर किशोरियों का प्राथमिकता के आधार पर होगा टीकाकरण

BBJ-NEWS

15 से 18 वर्ष तक के किशोर किशोरियों का हो रहा है कोविड टीकाकरण

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण आवश्यक

कार्यपालक निदेशक ने जारी किया दिशा-निर्देश

छपरा,13 जनवरी। कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के बीच कोविड टीकाकरण अभियान निरंतर जारी है। अब 15 से 18 वर्ष तक किशोर-किशोरियों का टीकाकरण किया जा रहा है। इसी कड़ी में अब चाइल्ड केयर में रह रहे किशोर-किशोरियों को प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण किया जायेगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक संजय कुमार सिंह ने पत्र जारी सिविल सर्जन को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि अनिवार्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए विशेष रूप से चाइल्ड केयर संस्थानों (सीसीआई) में रहने वाले बच्चों की देखभाल और सुरक्षा सुनिश्चित करें। किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के तहत यह कार्रवाई की गई है।

आईबी के अधिकारियों को दी जाए प्रीकॉशन डोज:

अब जिलों में गृह मंत्रालय, भारत सरकार की संस्था आईबी के पदाधिकारियों एवं कर्मियों को कोविड 19 के प्रीकॉशन डोज से टीकाकृत्त किया जाएगा। इसके लिए संबंधित संस्था के नोडल पदाधिकारी से समन्वय स्थापित करते हुये पूर्व में प्रथम एवं द्वितीय खुराक के आच्छादन के दौरान जो प्रक्रिया अपनाई गई उसी के अनुरूप इनका टीकाकरण कराया जाय।

प्रीकॉशन डोज की मिलेगी जानकारी:

वैसे लाभार्थी जो टीकाकरण के समय कोविन पोर्टल पर पंजीकृत नहीं हो पाये हैं उन्हें ऑफलाइन टीकाकृत किया जाय। इनका रिकॉर्ड संबंधित टीकाकरण केन्द्र पर ही संधारित किया जाय। जहां पूर्व में संधारित किया गया था। प्रीकॉशन डोज संबंधित प्रमाण पत्र उक्त श्रेणी के सभी टीकाकृत्त लाभार्थियों को उपलब्ध करायी जाय।

कोविन पोर्टल पर करना होगा स्लॉट बुक:

लाभार्थी कोविन प्लेटफॉर्म पर वैक्सीनेशन स्लॉट बुक कर सकेंगे। इसके अलावा, गाइडलाइन्स के अनुसार खुराक लेने के लिए टीकाकरण केंद्र में ऑन स्पॉट भी स्लॉट बुक कर टीकाकरण करवाया जा सकेगा।

 

इन मानकों का करें पालन और कोविड-19 संक्रमण से रहें दूर :

मास्क का उपयोग और शारीरिक दूरी का पालन जारी रखें।

नियमित तौर पर लगातार साबुन या अल्कोहल युक्त पदार्थों से अच्छी तरह हाथ धोएं।

बारी आने पर निश्चित रूप से वैक्सीनेशन कराएं और दूसरों को भी प्रेरित करें।

लक्षण महसूस होने पर कोविड-19 जाँच कराएं।