Fri. Jan 21st, 2022

पांच दिवसीय भारतीय विज्ञान कांग्रेस का महाकुम्भ सम्पन्न

Share this News
No


जालंधर, 07 जनवरी (हि.स.)। लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) में तीन जनवरी से शुरू हुई पांच दिवसीय भारतीय विज्ञान कांग्रेस का 106वां महाकुम्भ सो संपन्न हो गया।
समापन भाषण में भारतीय विज्ञान कांग्रेस के जनरल अध्यक्ष डॉक्टर मनोज कुमार चक्रवर्ती ने कहा कि एलपीयू ने देश भर के ही नहीं बल्कि विदेशी वैज्ञानिकों को भी अपने वैज्ञानिक विचारों को आपस में साझा करने का एक बहुत ही उम्दा मंच उपलब्ध कराया है। इसके लिए भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन यूनिवर्सिटी के उपकुलपति अशोक मित्तल के आभारी हैं।
विज्ञान के इस महाकुंभ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिमंडलीय सहयोगियों डा. हर्षवर्धन, प्रकाश जावड़ेकर, स्मृति इर्रानी और रवि शंकर प्रसाद ने सरकार द्वारा किये जा रहे विज्ञान और समाज विज्ञान के अलावा महिलाओं और बाल विज्ञान के बारे में अपनी अभिव्यक्ति की। इस भारतीय विज्ञान कांग्रेस महाकुंभ में तीन नोबल पुरस्कार विजेताओं का शामिल होना इसकी सबसे बड़ी उपलब्धि रही।
डॉ. चक्रवर्ती ने आशा प्रकट की कि इस विज्ञान कांग्रेस के दौरान किये गए फैसलों और सांझा किये गए अनुभवों से दुनिया और विशेष रूप से भारत के विज्ञान क्षेत्र में महत्वपूर्ण तरक्की होगी। इस कांग्रेस में 20 प्रिलिमिनरी सेशन इस बात को दर्शाते हैं कि लोगों की रुचि विज्ञान में बढ़ने लगी है। उन्हें इस बात का अहसास भी है कि विज्ञान आधारित अनुसंधानों से ही नवाचार की प्राप्ति की जा सकती है।
इस विज्ञान कांग्रेस में देश के महत्वपूर्ण संगठनों डीआरडीओ, इसरो , डीएसटी, इंडियन कौंसिल आफ एग्रीकल्चर रिसर्च, सीएसआईआर, इंडियन कौंसिल आफ टेक्निकल एजुकेशन, यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन, आईएससीए , अमेरिका और इंग्लैण्ड के विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिकों के अलावा 30 हज़ार विज्ञान से संबंधित अन्य लोगों ने भाग लिया।
समापन समारोह में भारतीय विज्ञान कांग्रेस की विज्ञान मशाल को भारतीय विज्ञान कांग्रेस के जनरल अध्यक्ष डॉ. मनोज कुमार चक्रवर्ती को 107वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस के आयोजन की शुभकामनाओं के साथ सौंप कर किया गया। विज्ञान कांग्रेस के दौरान इसरो, डीआरडीओ और अन्य भारतीय विज्ञान बीएसएनएल के उपकरणों, रक्षा उपकरणों तथा रोबोट की प्रदर्शनी लगाई गयी।