Sun. Jun 26th, 2022

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए बरमान मेला स्थल पर बनेगा केप्सूल पुल

Share this News

नरसिंहपुर, 28 दिसम्बर (हि.स.)। नर्मदा तट पर बरमान में प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के अवसर पर लगने वाले प्रसिद्ध मेले में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए नर्मदा नदी पर केप्सूल (पेंटून) पुल का निर्माण किया जायेगा। इससे मेले में आने वाले श्रद्धालु नर्मदा के एक तट से दूसरे तट पर आ- जा सकेंगे। बरमान मेला 14 जनवरी से 30 जनवरी तक चलेगा। मेला स्थल पर पॉलीथिन का प्रयोग प्रतिबंधित रहेगा। वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में कागज एवं कपड़े की थैलियों को प्राथमिकता दी जायेगी। यह जानकारी कलेक्टर दीपक सक्सेना की अध्यक्षता में शुक्रवार को बरमान रेस्ट हाऊस में हुई एक महत्वपूर्ण बैठक में दी गई। बैठक में बरमान मेला की तैयारियों के संबंध में बिंदुवार चर्चा की गई।
बैठक में जनप्रतिनिधियों, स्थानीय नागरिकों और व्यापारियों से मेले की व्यवस्थाओं के संबंध में सुझाव लिये गये और मेले के दौरान की जाने वाली व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया गया। कलेक्टर दीपक सक्सेना ने कहा कि बरमान मेले में बड़ी संख्या में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए सभी व्यवस्थायें की जायें। उन्होंने केप्सूल पुल के निर्माण के लिए प्रस्ताव भिजवाने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग को समय सीमा में केप्सूल पुल का निर्माण पूर्ण करने के लिए कहा। उन्होंने विभिन्न अधिकारियों को सौंपे गये दायित्वों को समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने मेला अवधि के दौरान बरगी डेम से पानी नहीं छोड़े जाने और एक समान जल स्तर बनाये रखने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यदि बरगी डेम से पानी छोड़ा जाता है, तो नरसिंहपुर जिले को पर्याप्त समय पूर्व सूचित किया जावे।
कलेक्टर ने मेला स्थल के लिए पहुंच मार्ग से संबंधित आवश्यक कार्य कराने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रकाश व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, पार्किंग स्थल, चिकित्सा व्यवस्था, आवश्यकतानुसार नाव, फायर ब्रिगेड, कंट्रोल रूम, वॉच टॉवर, सीसीटीवी कैमरे, शौचालय, गोताखोर, मेला ले- आउट, घाटों की साफ- सफाई, मंदिरों की पुताई, मोटरबोट, तैराक, लाइफ जैकेट आदि से संबंधित व्यवस्थाओं के बारे में संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने पर्याप्त संख्या में पानी के टेंकरों की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये।
सक्सेना ने स्वच्छता और शौचालय की व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि मेला समाप्ति के पश्चात मेला स्थल के कचड़े की साफ- सफाई पर विशेष ध्यान दिया जावे। जनपद और ग्राम पंचायत बेहतर समन्वय से साफ-सफाई करायें। घाटों पर महिलाओं के चैजिंग रूम की समुचित व्यवस्था रहे। मेला स्थल पर प्रकाश की समुचित व्यवस्था रहे। बरमान मेला से संबंधित रोडों की मरम्मत, गड्डों की पुराई, पैंच वर्क एवं पटरी सुधार, बरमान मेला पहुंच मार्ग के दोनों ओर झाडिय़ों की साफ-सफाई का कार्य किया जावे।

बैठक में तय किया गया कि मेले में वैरीकेडिंग के लिए बांस- बल्ली और अलाव के लिए जलाऊ लकड़ी वन विभाग द्वारा उपलब्ध कराई जायेगी। मेला स्थल पर दुकानों के लिए उपलब्ध कराई जाने वाली जगह और विद्युत की दरें पिछले वर्ष की तरह यथावत रहेंगी। मेला स्थल पर चिन्हित स्थानों पर अलाव लगाये जायेंगे। पिछले वर्ष की तरह ही अस्थाई शौचालयों की व्यवस्था रहेगी।

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेश तिवारी ने कहा कि मेले के दौरान सुरक्षा व्यवस्था और सुचारू यातायात सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता रहेगी। इसके लिए बेहतर प्रबंध किये जायेंगे। मेला स्थल पर अस्थाई थाना और कंट्रोल रूम बनाया जायेगा। उन्होंने एक तट से दूसरे तट पर जाने के लिए सुरक्षा की दृष्टि से नर्मदा नदी में दो नाव बांधकर चलाने पर जोर दिया। बैठक में बताया गया कि नर्मदा नदी में पानी की गहराई की मार्किंग के लिए लाल झंडियां और लोगों की सुरक्षा के लिए जाली आदि की व्यवस्था की जायेगी। मेला स्थल पर गोताखोर की व्यवस्था रहेगी और चिकित्सा के समुचित इंतजाम किये जायेंगे। अस्थाई चिकित्सालय बनाया जायेगा और एम्बुलेंस उपलब्ध रहेगी। विभागीय प्रदर्शनी भी लगाई जायेगी।

बैठक में जिला पंचायत उपाध्यक्ष शीला देवी ठाकुर, एसडीएम महेश कुमार बमनहा, आरएस राजपूत व सोनम जैन, कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग आदित्य सोनी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अनीता अग्रवाल, महाप्रबंधक उद्योग पीडी वंशकार, जिला शिक्षा अधिकारी जेके मेहर, आरईएस, पीएचई, जल संसाधन, पशु पालन, विद्युत वितरण कम्पनी, सीईओ जनपद और अन्य विभागों के जिला व खंड स्तरीय अधिकारी, जनप्रतिनिधि, व्यापारी एवं स्थानीय नागरिक मौजूद थे।