Fri. Sep 17th, 2021

सारण के स्वतंत्रता सेनानी स्व: श्री परमात्मा सिंह थे नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन के सिपाही

Share this News

सारण के स्वतंत्रता सेनानी स्व: श्री परमात्मा सिंह थे नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन के सिपाही

B.B.J-DESK

मांझी प्रखंड के तेघड़ा गांव के लोगो को आज भी अपने लाल स्वतंत्रता सेनानी स्व: परमात्मा सिंह पर नाज है। भारत छोड़ो आन्दोलन के इस जाबांज सिपाही ने अंग्रेजी हुकूमत की नींद उड़ा दी थी। वैसो तो ब्रिटिश शासकों के खिलाफ़ उनके मन में गुस्सा तभी फूट चुका था जब वे जैतपुर मिडिल स्कूल के छात्र थे।

किशोरावस्था में नमक सत्याग्रह से उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में सहभागिता की शुरुआत की।

1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में उनकी गतिविधि इस कदर बढ़ी की ब्रिटिश पुलिस ने उनके ऊपर इनाम रख दिया। उन्हे जिंदा या मुर्दा गिरफ्तार करने का पुलिसिया फरमान जारी होने के बाद वे फरार रहने लगे।

 

 

इसी दौरान उनके पिता श्री रामप्यारी सिंह ज़ी का देहांत हो गया।

अंग्रेजी शासकों को यह भरोसा था कि वो अपने पिता के श्राद्धकर्म में जरूर पहुचेंगे।उनकी सोच सही थी और वो अपने पिता के श्राद्धकर्म में भाग लेने गांव पहुंचे।उनके पहुंचते ही तेघड़ा गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया।लेकिन आज़ादी के इस दीवाने ने कसम खा रखी थी कि वह पुलिस के हाथ नही आएगा।ग्वाले का भेष बनाकर चार पांच गायों को लेकर पुलिस जवानों के आंखो में धूल झोंकते हुए गांव से बाहर निकल गए।

फिर वे और कई विद्रोही बन गए। कभी रेल लाईन उखाड़ना तो कभी स्टेशन और पोस्ट ऑफिस में आग लगा देना उनका नियमित कार्यक्रम बन गया।इधर अंग्रेजी सैनिक उनके परिजन और गांव के लोगो को परेशान करने लगे ।

उनके घर की कुर्की की गई और अनाज सहित सारे सामान पुलिस भी उठा ले गई।बाद में उनके भाई प्रभुनाथ सिंह उनसे मिले और कोर्ट में सरेंडर करने की नसीहत दी। इसके बाद तो वो घर से नाता ही तोड़ लिया।बाद में वह एक दिन अपने कुछ साथियों के साथ गोपालगंज में मुजवानी में मीटिंग कर रहे थे तभी पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए। यहां से उन्हें भागलपुर जेल भेजा गया और बाद में पटना के बांकीपुर जेल में रखा गया।

वही लोकनायक जयप्रकाश नारायण, कर्पूर ठाकुर,दारोगा प्रसाद राय,रामसुंदर दास आदि से मुलाकात हुई। फिर बांकीपुर जेल से कुछ ही दिनों में ब्रिटिश पुलिस को चकमा देकर फरार होने में कामयाब रहे।फिर उनका जेल आना जाना लगा रहा। जेल में कठोड़ यातनाएं भी भोगी

लेकिन आज़ादी मिलने तक उनका संघर्ष जारी रहा।स्वतंत्रता मिलने के बाद 15 अगस्त 1972 में भारत सरकार द्वारा परमात्मा सिंह जी को ताम्रपत्र प्रदान किया गया।1913 में जन्मे परमात्मा सिंह जी 1998 के 21 दिसंबर को स्वतंत्रता आंदोलन का वह सिपाही दुनिया को अलविदा कह चल दिए।