Fri. Sep 17th, 2021

बिहार के बच्चे को कोरोना के बाद नयी बिमारी MIS-C (मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम इन चिल्ड्रेन)

Share this News

बिहार में कोरोना संक्रमण का दूसरा लहर कमजोर पड़ा ही था कि ब्लैक फंगस नयी महामारी बनकर परेशानी का कारण बन बैठा. वहीं दूसरी तरफ कोरोना के बाद अब और कई नये संक्रमण फैल रहे हैं. कोरोना संक्रमण के दुष्प्रभाव के कारण ब्लैक फंगस के बाद एक नयी बिमारी एमआइएस-सी (मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम इन चिल्ड्रेन) ने बिहार में भी दस्तक दे दी है.यह बिमारी बच्चों को अपनी चपेट में लेता है. पटना में अभी तक 7 बच्चों में ये लक्षण पाए गए हैं.

पटना में 7 बच्चे इलाज के लिए भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, राजधानी पटना के अस्पताल में अभी तक इस बीमारी के चपेट में आने वाले 7 बच्चे इलाज के लिए भर्ती किए गए हैं. इसकी चपेट में वो बच्चे आ रहे हैं जो कोरोना संक्रमित हुए थे या फिर उनके घर में किसी को कोरोना हो गया था. यह बीमारी 18 वर्ष उम्र तक के किसी भी बच्चे में हो सकता है. हालांकि 12 साल से कम आयु के बच्चों में इससे अधिक खतरा रहता है.

MIS-C के लक्षण

-लगातार तीन दिन या उससे अधिक समय तक बुखार का होना.

-चमड़े में चकत्ते पड़ना.

-बच्चे का हाथ-पांव ठंडा होना.

-बल्ड प्रेशर का कम होना भी इसके लक्षणों में एक हैं.

-पेट में दर्द, डायरिया, उल्टी होना या पेट में मरोड़ होना.

-सांस लेने में तकलीफ, सीने में दर्द या दबाव महसूस होना.

-चेहरे या होंठ का नीला होना, सोकर उठने में दिक्कत.

-दिल की धड़कन तेज होना.

-होंठ या नाखुन का नीला पड़ना.