Tue. Oct 26th, 2021

खुलेआम धोखाधड़ी पर उतरा सिमेज कॉलेज, पहले से दागदार रहा है कॉलेज व निदेशक का इतिहास

Share this News

खुलेआम धोखाधड़ी पर उतरा सिमेज कॉलेज, पहले से दागदार रहा है कॉलेज व निदेशक का इतिहास

B.B.J-DESK

प्रोफेशनल कोर्स के नाम पर धोखाधड़ी करने वालों की फेहरिस्त लंबी है। कई बार ऐसे लोग पकड़ में आते भी हैं लेकिन मामला ठंडा पड़ते ही ये धोखेबाज भी पुरानी कारस्तानी में जुट जाते हैं। इन्हीं में बिहार की राजधानी पटना में चल रहा सिमेज कॉलेज, जिसका पूरा नाम है कैटेलिस्ट इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड एडवांस ग्लोबल एक्सीलेंस। अपने संस्थान  नाम में छात्रों की भीड़ खींचने के लिए तमाम अलंकरणों का प्रयोग करने वाले सिमेज कॉलेज के निदेशक नीरज अग्रवाल के उपर धोखाधड़ी के पुराने मामले भी हैं। हालिया मामला यह है कि सिमेज कॉलेज के पास पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के किसी कोर्स का एफिलिएशन नहीं होने के बावजूद, कॉलेज प्रशासन ने अपनी वेबसाइट पर इसका जिक्र किया है। वेबसाइट पर सिमेज कॉलेज का दावा है कि उसे पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय की ओर से बीबीएम, बीसीए और बीएससी आईटी कोर्स की मान्यता मिली है। जबकि सच्चाई यह है कि पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय ने सिमेज कॉलेज के किसी कोर्स को सत्र 2021-22 में मान्यता ही नहीं दी है।

सिमेज के दावों की जांच के लिए हमने पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय से सम्पर्क किया तो जानकारी मिली कि पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय ने पटना जिले में बीएससी आईटी कोर्स में नामांकन के लिए सिर्फ आठ कॉलेजों को मंजूरी दी है। इसमें सिमेज कॉलेज कहीं भी नहीं है। यही हाल बीबीएम और बीसीए कोर्स का भी है। दोनों कोर्सेज में सिमेज को मंजूरी नहीं दी गई है लेकिन सिमेज कॉलेज की वेबसाइट इन तीनों पाठ्यक्रमों की पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय से एफिलिएशन का दावा अपनी वेबसाइट के माध्यम से कर रहा है।

मामले की जांच के लिए इनसाइडर की टीम ने जब पुराने मामलों को खंगाला तो पता चला कि धोखाधड़ी के मामले में सिमेज कॉलेज और उसके निदेशक नीरज अग्रवाल पहले से ही लिप्त रहे हैं। 2017 में राजभवन की ओर से मगध विश्वविद्यालय प्रशासन को सिमेज कॉलेज द्वारा की गई अनियमितताओं की जांच का निर्देश दिया गया था। कॉलेज पर आरोप था कि आवंटित सीटों से अधिक पर नामांकन लिया था। इसके साथ छात्र-छात्राओं से अनियमित व अप्रत्याशित शुल्क की वसूली करने का भी आरोप लगा। साथ ही यह भी आरोप है कि किराए के भवनों में प्रोफेशनल कॉलेजों का संचालन किया जा रहा है, जो नियमों के अनुरूप नहीं है।

इससे पहले 2014 में सिमेज पर छात्रों को धोखा देने के बड़े आरोप लगे थे। इसमें कॉलेज पर आरोप था कि सिमेज कॉलेज ने नामांकन तो अपने संस्थान में कराया लेकिन फॉर्म भरवा दिया था बिहटा से। 2014 में ही सिमेज कॉलेज के खिलाफ उसके छात्रों ने मोर्चा खोला था क्योंकि सिमेज कॉलेज ने बिना मान्यता के ही कोर्स में दाखिला ले लिया था। तक सिमेज के निदेशक नीरज अग्रवाल ने दावा किया था कि मगध विश्वविद्यालय प्रशासन की सहमति से दाखिला लिया था। जबकि मगध विश्वविद्यालय के तत्कालीन पीआरओ मो. एमएस इस्लाम ने स्पष्ट बताया था कि सिमेज कॉलेज को मान्यता नहीं दी गई थी।

सिमेज कॉलेज के माध्यम से तो तमाम धोखाधड़ी तो होते ही रहे, सिमेज के निदेशक नीरज अग्रवाल को फर्जीवाड़े और धोखाधड़ी के मामले में जेल तक जाना पड़ा है। कोर्ट से वारंट जारी होने के बाद सिमेज के निदेशक को उनके ही छात्रों द्वारा दर्ज कराए गए मामले में गिरफ्तार किया गया था। नीरज अग्रवाल ने तब 19 लाख रुपए की अवैध वसूली की थी। सत्र 2013-16 में सिमेज कॉलेज ने बीएमसीए कोर्स में 32 छात्र-छात्राओं का नामांकन लिया था। लेकिन एक साल पढ़ाई के बाद उनका अचानक कोर्स बदलने की शुरुआत हो गई थी। तब छात्रों ने मामला दर्ज कराया था। धोखाधड़ी के पुराने मामलों में लिप्त सिमेज कॉलेज अभी भी छात्र-छात्राओं के बीच भ्रम फैला रहा है और अवैध उगाही का प्रयास कर रहा है।