Tue. Oct 26th, 2021

आर एस ए छात्रा इकाई का प्रतिनिधिमंडल कुलपति/ छात्र संकाय अध्यक्ष/ कुलसचिव /परीक्षा नियंत्रक,

Share this News

आर एस ए छात्रा इकाई का प्रतिनिधिमंडल कुलपति/ छात्र संकाय अध्यक्ष/ कुलसचिव /परीक्षा नियंत्रक,

B.B.J-DESK

जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा से मिलकर स्मार पत्र देने के लिए जैसे ही विश्वविद्यालय कैंपस में पहुंची। गार्डों के द्वारा गेट को बंद कर दिया गया। छात्रनेत्री ने जब सवाल किया तो गार्डो के द्वारा बताया गया कि विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों के द्वारा कैंपस में छात्राओं के आने पर रोक है। उनकी जो भी समस्या है गेट पर सुनी जाएगी। इसके बाद संघर्ष गार्डो एवं छात्रनेत्रियों के बीच चलता रहा ।अंततहँ विश्वविद्यालय प्रशासन को झुकना पड़ा गेट खुला। विश्वविद्यालय छात्रा प्रमुख नेहा सिंह ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि अभी तो गेट खुला है आज भ्र्ष्टाचार का भी अब पोल खुलेगा। विश्वविद्यालय के पदाधिकारी कर्मचारी पुरुष मानसिकता से ग्रसित है ।इसको ठीक करने की आवश्यकता है। विश्वविद्यालय प्रशासन को छात्र नेताओं छात्रों से कोई परहेज नहीं है। आखिर विश्वविद्यालय को छात्राओं से क्या तकलीफ है ।इतना डर क्यों रहे हैं? विश्वविद्यालय के पदाधिकारी यह समझ के परे है! कुलपति, परीक्षा नियंत्रक, कुलसचिव, छात्र संकाय अध्यक्ष से मिलकर प्रतिनिधिमंडल ने स्मार पत्र सौंपा ।छात्रा इकाई के प्रमुख मांग इस प्रकार है:-

(1) पेट परीक्षा आयोजन को लेकर नोटिफिकेशन जल्द से जल्द जारी किया जाए। प्रत्येक विषयों में सेमिनार/ सिंपोजियम का आयोजन किया जाए। पीजीआरसी की बैठक प्रत्येक माह में हो।

(2) स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर परीक्षा प्रपत्र भरने में सीबीसीएस के द्वारा निर्धारित सैद्धांतिक विषयों के छात्राओं से परीक्षा प्रपत्र शुल्क अधिक विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा लिया जा रहा है जिसको कम किया जाए।

(3) जय प्रकाश महिला महाविद्यालय छपरा, महेंद्र महिला कॉलेज गोपालगंज एवं विद्या भवन महिला कॉलेज सिवान में एनसीसी के 1-1 यूनिट खोला जाए।

(4) प्रत्येक महाविद्यालय में छात्राओं के लिए कॉमन रूम की व्यवस्था की जाए।

(5) विश्वविद्यालय द्वारा जिन विषयों में नामांकन लिया जाता है। उसमें छात्राओं के लिए 33% आरक्षण राज्य सरकार के नियमानुसार दिया जाए।

(6) स्नातक प्रथम खंड में नामांकन शुल्क छात्राओं से भी लिया जा रहा है। बार-बार विश्वविद्यालय प्रशासन को तथ्य के साथ सबूत दिया गया लेकिन कोई भी कार्रवाई नहीं किया गया। दोषियों पर करवाई किया जाए एवं अवैध वसूली पर रोक लगे।

(7) प्रत्येक महाविद्यालयों में सांस्कृतिक विभाग / खेल विभाग को पूर्ण जीवित किया जाए। जो छात्राएं संस्कृतिक कार्यक्रम /खेल में रुचि रखती हैं उन को लाभ मिल सके।

(8) छात्राओ, महिला शिक्षकों एवं महिला कर्मचारियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यूजीसी एवं राज्य सरकार के गाइडलाइन के अनुसार जेपीयू अपने वेबसाइट पर शिकायत दर्ज करने के लिए वेबसाइट पर जगह दिया जाय।

(9) स्नातक एवं स्नातकोत्तर के छात्राओं के लिए जो भी स्कॉलरशिप आते हैं। उसके बारे में विस्तार से जेपीयू अपने वेबसाइट पर डालें एवं सभी महाविद्यालयों एवं स्नातकोत्तर विभागों में इसके लिए सेमिनार का आयोजन किया जाए।

आर एस ए छात्रा इकाई ने आज विश्व विद्यालय कैंपस में ऐलान किया कि मजबूती के साथ अपनी समस्या का समाधान कराएंगे । भृष्टाचारी पदाधिकारियों,भृष्टाचारी कर्मचारियों का अब खैर नहीं! आज हम लोगों ने अल्टीमेटम दे दिया है अगर हमारी मांग विश्वविद्यालय प्रशासन पूरा नहीं करता है तो विश्वविद्यालय के 5000 छात्राओ के साथ घेरेंगे। जिसकी सारी जवाबदेही विश्वविद्यालय प्रशासन की होगी। प्रतिनिधि मंडल में प्रमुख रूप से नेहा सिंह, शिवानी पांडे, रिशु राज सिंह राठौर, पूनम कुमारी ,दुर्गा कुमारी ,निशा कुमारी ,पूजा कुमारी जिया सिंह आदि थी।