Fri. Jan 21st, 2022

500 बरसों पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया।

Share this News

सारण मंडल में एकमात्र माता लक्ष्मी जी का अति प्राचीन मंदिर रतनपुरा संस्कृत महाविद्यालय के उत्तर धर्मनाथ मंदिर से 500 गज पूरब लक्ष्मीनारायण जुगलकिशोर भारतीया  परिवार के वंशज रामअवतार कैलाश भारतिया परिवार के द्वारा लगभग 500 बरसों पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया।

दौलत गंज निवासी भगवान दास के द्वारा निर्मित मंदिर का लगभग 300 वर्षों से भारतीया परिवार संरक्षक करता रह रहा है। इन्हीं परिवार के द्वारा इस मंदिर में बलि प्रथा को बंद किया गया।  महानवमी के दिन बलि के रूप भतुहा की बलि चढ़ाई जाती है ।भक्तों की भीड़ आरती के समय उमड़ी। सरजू और गंगा माता के बीच में महालक्ष्मी जी विराजती है जिनके दर्शन मात्र से सुख समृद्धि और धन की प्राप्ति होती है। इसी मंदिर में दक्षिणेश्वर हनुमान जी स्थापित है जो सभी संकटों को क्षण में दूर करते हैं।