Thu. Sep 16th, 2021

विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का कुलपति ने किया उद्घाटन

Share this News

विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का कुलपति ने किया उद्घाटन

कौशल झा की रिपोर्ट

बिहार विधान परिषद के तत्कालीन सदस्य प्रो० (डॉ०) दिलीप कुमार चौधरी के ऐच्छिक कोष से शहर के एमएलएसएम कॉलेज के समीप विद्यापति चौक पर अवस्थित कवि कोकिल विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का उद्घाटन सोमवार को ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सुरेंद्र प्रताप सिंह ने किया। फीता काटकर प्रतिमा स्थल का उद्घाटन करने उपरांत उन्होंने वेदोच्चारण के बीच महाकवि की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किया।

मौके पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि कवि कोकिल विद्यापति एक साधक अक्षर पुरुष के रुप में विश्वविख्यात हैं। इनकी रचना आज भी सर्वविदित है। देसिल बयना सबजन मिट्ठा का सूत्र देकर लोक भाषा के प्रति जनचेतना जगाने का उन्होंने जो महान प्रयास किया, वह अतुलनीय है। उन्होंने कहा कि महाकवि के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण देखकर मन प्रफुल्लित हुआ है। इस कार्य के लिए उन्होंने डाॅ बैद्यनाथ चौधरी बैजू एवं डाॅ दिलीप कुमार चौधरी को धन्यवाद देते कहा कि विभूतियों को सम्मान देने से स्वयं का कलेजा सबसे पहले गर्व से चौड़ा होता है।

विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ. बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने कहा कि मिथिला मे विभूतियों की कमी नहीं रही है, लेकिन समस्त मिथिला के लोक व्यवहार में प्रयोग किए जाने वाले गीतों में आज भी विद्यापति के श्रृंगार और भक्ति रस में डूबी रचनाओं का जीवंत हैं। इससे यह प्रमाणित होता है कि वे एक ऐसे कालजयी रचनाकार थे जिनकी रचनाएं भूत, वर्तमान और भविष्य के लिए प्रासंगिक है। उन्होंने समस्त मिथिलावासी की ओर से इस कार्य के लिए डाॅ दिलीप चौधरी को धन्यवाद दिया। पूर्व विधान पार्षद डाॅ दिलीप कुमार चौधरी ने कहा वे हमेशा से बैजू बाबू की प्रेरणा से ऊर्जान्वित महसूस करते रहे हैं। आज उनकी सदिच्छा का परिणाम है कि वे कवि कोकिल के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण करने में सफल हो सके।

इससे पहले अतिथियों का सम्मान मिथिला पेंटिंग युक्त पाग, चादर एवं पुष्पमाल प्रदान कर किया गया। जबकि गीतकार सुधाकांत झा ने विद्यापति के रचनाओं की सस्वर प्रस्तुति दी। मौके पर एमएलएसएम कॉलेज की प्रधानाचार्य डाॅ मंजू चतुर्वेदी, डाॅ टुनटुन झा अचल, हरिश्चंद्र हरित, विनोद कुमार झा, प्रवीण कुमार झा आदि ने भी अपने विचार रखे। धन्यवाद ज्ञापन मिथिला विभूति पर्व समारोह के स्वागताध्यक्ष प्रजेश कुमार झा ने किया। कार्यक्रम में विनोद कुमार, दुर्गानंद झा, डाॅ गणेश कांत झा, डॉ दिनेश झा, आशीष चौधरी,विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का कुलपति ने किया उद्घाटन

बिहार विधान परिषद के तत्कालीन सदस्य प्रो० (डॉ०) दिलीप कुमार चौधरी के ऐच्छिक कोष से शहर के एमएलएसएम कॉलेज के समीप विद्यापति चौक पर अवस्थित कवि कोकिल विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का उद्घाटन सोमवार को ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सुरेंद्र प्रताप सिंह ने किया। फीता काटकर प्रतिमा स्थल का उद्घाटन करने उपरांत उन्होंने वेदोच्चारण के बीच महाकवि की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किया।

मौके पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि कवि कोकिल विद्यापति एक साधक अक्षर पुरुष के रुप में विश्वविख्यात हैं। इनकी रचना आज भी सर्वविदित है। देसिल बयना सबजन मिट्ठा का सूत्र देकर लोक भाषा के प्रति जनचेतना जगाने का उन्होंने जो महान प्रयास किया, वह अतुलनीय है। उन्होंने कहा कि महाकवि के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण देखकर मन प्रफुल्लित हुआ है। इस कार्य के लिए उन्होंने डाॅ बैद्यनाथ चौधरी बैजू एवं डाॅ दिलीप कुमार चौधरी को धन्यवाद देते कहा कि विभूतियों को सम्मान देने से स्वयं का कलेजा सबसे पहले गर्व से चौड़ा होता है।

विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ. बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने कहा कि मिथिला मे विभूतियों की कमी नहीं रही है, लेकिन समस्त मिथिला के लोक व्यवहार में प्रयोग किए जाने वाले गीतों में आज भी विद्यापति के श्रृंगार और भक्ति रस में डूबी रचनाओं का जीवंत हैं। इससे यह प्रमाणित होता है कि वे एक ऐसे कालजयी रचनाकार थे जिनकी रचनाएं भूत, वर्तमान और भविष्य के लिए प्रासंगिक है। उन्होंने समस्त मिथिलावासी की ओर से इस कार्य के लिए डाॅ दिलीप चौधरी को धन्यवाद दिया। पूर्व विधान पार्षद डाॅ दिलीप कुमार चौधरी ने कहा वे हमेशा से बैजू बाबू की प्रेरणा से ऊर्जान्वित महसूस करते रहे हैं। आज उनकी सदिच्छा का परिणाम है कि वे कवि कोकिल के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण करने में सफल हो सके।

इससे पहले अतिथियों का सम्मान मिथिला पेंटिंग युक्त पाग, चादर एवं पुष्पमाल प्रदान कर किया गया। जबकि गीतकार सुधाकांत झा ने विद्यापति के रचनाओं की सस्वर प्रस्तुति दी। मौके पर एमएलएसएम कॉलेज की प्रधानाचार्य डाॅ मंजू चतुर्वेदी, डाॅ टुनटुन झा अचल, हरिश्चंद्र हरित, विनोद कुमार झा, प्रवीण कुमार झा आदि ने भी अपने विचार रखे। धन्यवाद ज्ञापन मिथिला विभूति पर्व समारोह के स्वागताध्यक्ष प्रजेश कुमार झा ने किया। कार्यक्रम में विनोद कुमार, दुर्गानंद झा, डाॅ गणेश कांत झा, डॉ दिनेश झा, आशीष चौधरी, पुरुषोत्तम वत्स, नवल किशोर झा आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही। पुरुषोत्तम वत्स, नवल किशोर झा आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही।

———————–

 

बिहार विधान परिषद के तत्कालीन सदस्य प्रो० (डॉ०) दिलीप कुमार चौधरी के ऐच्छिक कोष से शहर के एमएलएसएम कॉलेज के समीप विद्यापति चौक पर अवस्थित कवि कोकिल विद्यापति के सौन्दर्यीकृत प्रतिमा स्थल का उद्घाटन सोमवार को ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सुरेंद्र प्रताप सिंह ने किया। फीता काटकर प्रतिमा स्थल का उद्घाटन करने उपरांत उन्होंने वेदोच्चारण के बीच महाकवि की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा-सुमन अर्पित किया।

मौके पर अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि कवि कोकिल विद्यापति एक साधक अक्षर पुरुष के रुप में विश्वविख्यात हैं। इनकी रचना आज भी सर्वविदित है। देसिल बयना सबजन मिट्ठा का सूत्र देकर लोक भाषा के प्रति जनचेतना जगाने का उन्होंने जो महान प्रयास किया, वह अतुलनीय है। उन्होंने कहा कि महाकवि के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण देखकर मन प्रफुल्लित हुआ है। इस कार्य के लिए उन्होंने डाॅ बैद्यनाथ चौधरी बैजू एवं डाॅ दिलीप कुमार चौधरी को धन्यवाद देते कहा कि विभूतियों को सम्मान देने से स्वयं का कलेजा सबसे पहले गर्व से चौड़ा होता है।

विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव डॉ. बैद्यनाथ चौधरी बैजू ने कहा कि मिथिला मे विभूतियों की कमी नहीं रही है, लेकिन समस्त मिथिला के लोक व्यवहार में प्रयोग किए जाने वाले गीतों में आज भी विद्यापति के श्रृंगार और भक्ति रस में डूबी रचनाओं का जीवंत हैं। इससे यह प्रमाणित होता है कि वे एक ऐसे कालजयी रचनाकार थे जिनकी रचनाएं भूत, वर्तमान और भविष्य के लिए प्रासंगिक है। उन्होंने समस्त मिथिलावासी की ओर से इस कार्य के लिए डाॅ दिलीप चौधरी को धन्यवाद दिया। पूर्व विधान पार्षद डाॅ दिलीप कुमार चौधरी ने कहा वे हमेशा से बैजू बाबू की प्रेरणा से ऊर्जान्वित महसूस करते रहे हैं। आज उनकी सदिच्छा का परिणाम है कि वे कवि कोकिल के प्रतिमा स्थल का सौंदर्यीकरण करने में सफल हो सके।

इससे पहले अतिथियों का सम्मान मिथिला पेंटिंग युक्त पाग, चादर एवं पुष्पमाल प्रदान कर किया गया। जबकि गीतकार सुधाकांत झा ने विद्यापति के रचनाओं की सस्वर प्रस्तुति दी। मौके पर एमएलएसएम कॉलेज की प्रधानाचार्य डाॅ मंजू चतुर्वेदी, डाॅ टुनटुन झा अचल, हरिश्चंद्र हरित, विनोद कुमार झा, प्रवीण कुमार झा आदि ने भी अपने विचार रखे। धन्यवाद ज्ञापन मिथिला विभूति पर्व समारोह के स्वागताध्यक्ष प्रजेश कुमार झा ने किया। कार्यक्रम में विनोद कुमार, दुर्गानंद झा, डाॅ गणेश कांत झा, डॉ दिनेश झा, आशीष , आशीष, पुरुषोत्तम वत्स, नवल किशोर झा आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही।