Mon. Sep 26th, 2022

दहियावां क्लब ने 5-2 से जीता फुटबॉल कप

Share this News

दहियावां क्लब ने 5-2 से जीता फुटबॉल कप

छपरा। सारण जिला फुटबॉल संघ के तत्वाधान में आयोजित नीलिमा बसु फुटबॉल प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबला रविवार को खेला गया। निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 गोल कर बराबरी पर थी।

इसलिए निर्णय के लिए ट्राई ब्रेकर का सहारा लेना पड़ा। जिसने दहियावां क्लब ने मांझी को 5-2 से पराजित कर कप पर कब्जा जमा लिया। इससे पूर्व फाइनल मैच का विधिवत उद्घाटन सूबे के कला संस्कृति व युवा मंत्री जितेंद्र कुमार राय,श्रम संसाधन मंत्री सुरेंद्र राम, पूर्व मंत्री उदित राय ने अन्य अतिथियों के साथ खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर तथा गुब्बारा उड़ाकर किया।पहले हाफ तक दोनों टीमें 1-1 गोल कर बराबरी पर थी। पहला गोल मांझी की तरफ से किया गया। थोड़ी ही देर में पलटवार करते हुए बाद दहियावां की टीम
ने गोल कर मैच बराबरी पर ला दिया। अंतिम समय तक दोनों टीमें 1-1 गोल कर बराबरी पर ही रही। निर्धारित समय तक दोनों टीमें अतिरिक्त गोल नहीं कर सकी।

इसके बाद ट्राई ब्रेकर का निर्णय लिया गया। मुख्य निर्णयक रामबाबू राय थे। संचालन तथा कमेंट्री आयोजन समिति अध्यक्ष सत्यप्रकाश यादव तथा मनोज वर्मा संकल्प ने किया। वही श्री सत्यप्रकाश यादव ने कहा ने कहा कि खेल से जहां शरीर का विकास होता है। वहीं इससे मनोरंजन के साथ प्रेम की भावना विकसित होती है। श्री प्रकाश कहते कि जीत और हार जिंदगी का अहम हिस्सा है। आज जीतने वाला कल हार और आज हारने वाला कल जीत भी सकता है। विजेता खिलाड़ियों को और कड़ी मेहनत कर आगे की मंजिल को छूने की कोशिश करनी चाहिए। वहीं जीत से वंचित खिलाड़ियों को ज्यादा अभ्यास कर हाथ से खोई हुई जीत को पाने के लिए संकल्प लेना चाहिए

इस अवसर पर प्रो चन्द्रिका राय, विक्की आनंद, दारा सिंह, संजीव कुमार सिंह, मदन मोहन सिंह, लालू प्रसाद,अमरजीत राय, जिलानी मोबिन,सुरेश प्रसाद सिंह समेत तमाम गणमान्य लोग व पूर्व खिलाड़ी भी मौजूद थे। पूर्व मंत्री उदित राज ने मुख्य अतिथि को शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया। इसके साथ ही पूर्व खिलाड़ियों को आयोजन समिति की तरफ से सम्मानित किया गया। प्रसिद्ध लोक गायक रामेश्वर गोप की टीम ने स्वागत गान प्रस्तुत किया। रामेश्वर गोप के साथ सोनम मिश्रा,आरती कुमारी ने शानदार संगीतमय प्रस्तुति दी। पांच साल के नन्हे गायक रितिक में रघुवीर नारायण की ‘बटोहिया’ की शानदार प्रस्तुति दी। निर्णयकों में अमितांशु बाबा, नवेंदु भूषण, छोटा प्रदीप, राजन प्रसाद आदि थे।