Sat. May 28th, 2022

रेलवे होटल ठेका घोटाला : सीबीआई ने तेजस्वी से की चार घंटे पूछताछ

Share this News

पटना, 10 अप्रैल (हि.स.)। बिहार में मंगलवार को मोतिहारी में जिस समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भष्टाचार के खिलाफ जंग जारी रखने का संकल्प दोहरा रहे थे, उसी समय पटना में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद के रेल मंत्रित्वकाल में रेलवे के रांची और पुणे के होटलों को ठेके पर देने संंबंधी मामले में सीबीआई की दिल्ली टीम द्वारा सोमवार को यहां पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास में उनके छोटे बेटे तेजस्वी प्रसाद यादव से पूछताछ की जा रही थी। यह पूछताछ लगभग चार घंटे चली। प्रधानमंत्री के पटना से नई दिल्ली लौटने के पहले ही सियासी गलियारे में सीबीआई की कार्रवाई की खबर फैलते ही आरोप—पलटवार का सिलसिला तेज हो गया । राजद ने प्रधानमंत्री के बिहार प्रवास में सीबीआई की कार्रवाई को बदले की कार्रवाई माना है। सत्तारुढ़ जदयू—भाजपा के गठबंधन के नेताओं ने इसे राजनीतिक रंग देने की बजाय सामान्य कानूनी कार्रवाई कहा है। सीबीआई की दिल्ली शाखा ने रेलवे होटल ठेका घोटाला मामले में लालू प्रसाद, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और छोटे बेटे तेजस्वी सहित लगभग एक दर्जन व्यक्तियों को आरोपी बनाया है। सीबीआई द्वारा मामला दर्ज किये जाने के बाद राबड़ी देवी के आवास पर पिछले वर्ष छापेमारी हुई थी। तेजस्वी मामला दर्ज किये जाने के बाद सीबीआई को आरोप पत्र दायर करने की चुनौती देते रहे हैं और इसे राजनीतिक बदले की कार्रवाई मानकर विरोध करते रहे हैं। इस मामले में आरोप है कि पटना के चाणक्य होटल के संचालक कोचर बंधुओं ने रेलवे काे दो होटल ठेका पर लेने के एवज में तत्कालीन कंपनी मामले के मंत्री प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता की कंपनी के नाम पटना की तीन बीघा जमीन लिखवा ली थी। बाद में इस जमीन को राबड़ी—तेजस्वी की कंपनी के नाम लिखवा कर वहां 750 करोड़ रुपये की लागत से बिहार का सबसे बड़ा मॉल बनवाया जा रहा था। भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने दस्तावेज के आधार पर इसका खुलासा किया था। उसके पहले लालू के रेल मंत्री रहते हुए शरद यादव की अगुआई में जदयू नेताओं ने तत्कालीन प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह को ठेका पर रेलवे का दो होटल देने के एवज में जमीन लिखवाने का आरोप लगाकर जांच कराने की मांग की थी। सियासी गलियारे में चर्चा है कि होटल ठेका घोटाला मामले में सीबीआई ने चार्जशीट दायर करने की तैयारी के तहत तेजस्वी से पूछताछ की है । राजद के उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने तेजस्वी से पूछताछ पर कहा है कि कितना नीचे उतर सकते हैं लोग। लालू का परिवार बेटे की शादी की तैयारी में व्यस्त है और उनके घर सीबीआई छापा मार रही है। शुभकाम में विघ्न डालने का काम हो रहा है। संयोग या और कुछ, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री दोनों बिहार में एक साथ हैं और छापेमारी हो रही है। पार्टी के प्रवक्ता एवं विधायक शक्ति सिंह यादव ने कहा कि परिवार में शादी का माहौल और लालूजी के दिल्ली एम्स में इलाज के लिए भर्ती रहते सीबीआई की यह कार्रवाई निंदनीय है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता डा. सी.पी.ठाकुर ने सीबीआई की कार्रवाई को राजनीतिक रंग देने को गलत माना। उन्होंने कहा कि यह तो पहले से दर्ज मामला है। सीबीआई अपना काम कर रही है । इसमें सरकार का क्या लेना—देना है। जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि राजद को अपना कुकृत्य नहीं दिखता है। बे सिर—पैर के आरोप मढ़ कर भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने की कोशिश से कोई फायदा नहीं होगा । जनता सब कुछ समझ रही है।