Tue. Oct 26th, 2021

ओजोन दिवस पर जयप्रकाश महिला महाविद्यालय में गोष्ठी का आयोजन

Share this News

जिला संवाददाता आनंद वर्मा की रिपोर्ट 

छपरा :- जयप्रकाश महिला महाविद्यालय में रसायन शास्त्र विभाग की ओर से विश्व ओजोन दिवस का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्ष प्राचार्य डॉ मधु प्रभा सिंह ने कहा कि मनुष्य की महत्वाकांक्षा और जागरूकता के अभाव के कारण ही पर्यावरण असंतुलन बढ़ रहा है। यही असंतुलन प्राकृतिक आपदाओं का कारण है। ओजोन के परत में छेद की समस्या इसी असंतुलन की देन है। प्रकृति से;धरती से हम सब कुछ लेते हैं, परन्तु हम उसे स्वच्छ और सुरक्षित रखने के बजाय उसे प्रदूषित करते हैं। प्रदूषण में फैक्टरी से निकलने वाले जहरीले गैस व रासायनिक पदार्थ, प्लास्टिक के थैले आदि अहम भूमिका निभाते हैं।अत: पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति स्वयं जागरूक व सचेत होने के साथ-साथ दूसरों को भी जागरुक व सचेत करने की आवश्यकता है। यह वर्तमान और हमारी भावी पीढ़ी दोनों के लिए हितकारी है।इस उद्देश्य की पूर्ति ही इस दिवस को मनाने की सार्थकता होगी।

रसायन शास्त्र विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ अंबिका ने ओजोन की उत्पत्ति, उपयोग, ओजोन परत के क्षय के कारण एवं उसके क्षय को रोकने के उपाय समेत अन्य बिंदुओं पर भी विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि यदि ओजोन परत इसी तरह नष्ट होता रहा तो संपूर्ण पृथ्वी का संतुलन बिगड़ जाएगा एवं संपूर्ण सृष्टि खतरे में पड़ जाएगी। अतः समय रहते हमें सचेत हो जाना चाहिए एवं इसके क्षरण को रोकने के प्रयास तेज कर देने चाहिए जिनमें सीएफसी एवं ऐसे पदार्थों के उपयोग को प्रतिबंधित करना चाहिए।

महाविद्यालय की छात्राओं ने कार्यक्रम में बढ़ चढ़कर भाग लिया। छात्रा आकांक्षा ने ओजोन की हमारे जीवन में भूमिका के विषय में बताया, वही लवली ने इसके लाभ एवं क्षय से होने वाले नुकसान पर प्रकाश डाला, जबकि जागृति ने विश्व स्तर पर होने वाले उपायों एवं संधियों के विषय में चर्चा की।

इस अवसर पर डॉ रेखा श्रीवास्तव, डॉ मंजू सिन्हा, डॉ अर्चना, चंचल कुमारी, पूनम, नम्रता , डॉ आकांक्षा, डॉ विनीता, डॉ शबाना,  डॉ शिखा, डॉ सोनाली, डॉ रिंकी, डॉ अलीना, डॉ नीतू, डॉ चंदन एवम अन्य शिक्षक व शिक्षिकाएं उपस्थित थे। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में सभी शिक्षक, छात्राओं एवं पूरे महाविद्यालय परिवार का सहयोग रहा।