Mon. Jun 21st, 2021

अब निजी सुरक्षा कर्मियों एवं अग्निशमन कर्मियों का होगा टीकाकरण

Share this News

छपरा से आनन्द वर्मा की रिपोर्ट

• फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में किया जायेगा टीकाकरण
• कोरोना संक्रमण से बचाव कारगर हथियार है वैक्सीन
• राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक ने जारी किया पत्र
छपरा। जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करने के लिए कोविड टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। अब 18 से 44 वर्ष तक लाभार्थियों का टीकाकरण किया जा रहा है। इसी कड़ी स्वास्थ्य विभाग ने एक अहम निर्णय लिया है। अब निजी सुरक्षा कर्मियों और अग्निशमन कर्मियों को फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में टीकाकरण किया जायेगा। इसको लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक निर्देश दिया है। विभिन्न सरकारी एवं निजी कार्यालयों आदि में निजी संस्थानों द्वारा सुरक्षा कर्मी / गार्ड की सेवा प्रदान की जा रही है। जारी पत्र के माध्यम से निर्देश दिया गया है कि निजी सुरक्षा गार्ड तथा अग्निशमन सेवाऐं से संबंधित कर्मचारी का को भी कोविड 19 के संक्रमण से बचाव टीकाकरण कराया जाना आवश्यक है।

अब अस्पतालों के बजाय कॉलेज व स्कूलों में बनाया गया टीकाकरण केंद्र:

कोरोना को लेकर लगातार सतर्कता बरती जा रही है। टीकाकरण केंद्रों पर भीड़ की वजह से संक्रमण नहीं फैले, इस वजह से यह कदम उठाया गया है। काफी तादाद में युवावर्ग टीकाकरण के लिए आ रहे हैं। इसके अलावा 45 से अधिक उम्र के लोगों के अलावा छूटे हुए स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी कोरोना के टीके दिए जा रहे हैं। अब स्वास्थ्य संस्थानों से टीकाकरण केंद्रों को अलग कर दिया गया है। चिन्हित स्कूल एवं कॉलेजों में टीकाकरण केंद्र बनाये गये हैं।

30 मिनट तक की गई निगरानीः

सिविल सर्जन डॉ. जर्नादन प्रसाद सुकुमार ने बताया कि कोरोना टीका लेने वाले लाभुकों की 30 मिनट तक निगरानी की गई। टीका पड़ने के बाद स्वास्थ्यकर्मी 30 मिनट तक स्वास्थ्यकर्मियों की देखरेख में रहे। सभी कुछ सामान्य रहने के बाद लाभुकों को छोड़ दिया गया। जो टीका का पहला डोज लेने आ रहे हैँ उन्हें दूसरे डोज समय पर आकर अवश्य लेने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही जिन लोगों ने बूस्टर डोज लिया, उनका टीकाकरण पूरा हो गया। इस दौरान लाभुकों से टीका का बूस्टर डोज अवश्य लेने की अपील की गई। जो लोग ऐसा नहीं करेंगे, उनका टीकाकरण पूरा नहीं होगा।