Sat. May 28th, 2022

उत्क्रमित मध्य विद्यालय ईशुपुर में भी फहराया गया झंडा

Share this News

सारण-अगर शिक्षक के अंदर आत्मबल हो तो वो सरकारी विद्यालय में भी गैर सरकारी विद्यालय जैसी सुविधा व्यवस्थित कर सकता है।आपको सुनने में ये असंभव जैसा लग रहा होगा।क्योंकि बिहार में इसकी परिकल्पना करना असंभव है।लेकिन इस असंभव को संभव कर दिखाया दिघवारा प्रखंड के मानुपुर पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय ईशुपुर के शिक्षकों नें।
जी हांँ,बिहार के अधिकतर सरकारी विद्यालयों में बच्चें जहाँ ड्रेस नहीं पहनते,ऐसे में इस विद्यालय के बच्चें प्रतिदिन साफ सुथरे ड्रेस के साथ साथ जूते पहनकर प्रतिदिन विद्यालय आते है।आज के इस दौर जहाँ बच्चें आज भी चापाकल का पानी पीने का मजबूर है।वहीं इस विद्यालय के बच्चों के लिए शिक्षकों नें अपनें खर्चे से आर.ओ. लगवाया हुआ है।गैर सरकारी विद्यालयों के तरह ही इसमें कार्यशाला का आयोजन होता है।समय समय पर जाँच परीक्षा,कमजोर विद्यार्थियों के लिए अलग से समय ,अच्छे खेल कूद की व्यवस्था आदि कार्य किए जाते है।एक शिक्षक से हमनें बात कि तो बताया कि हमारे इस कार्यो से बच्चों के साथ साथ उनके अभिभावक भी खुश रहते है। ऐसे तो प्रतिदिन विद्यालय में साफ सफाई होती है।लेकिन सप्ताह में एक दिन विद्यालय में स्वच्छता अभियान चलाया जाता है।जिसमें बच्चे अपनी इच्छा से उसमें बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते है।बच्चे पर्यावरण के महत्त्व को समझते है,इसलिए तो वे विद्यालय में पेङ पौधे लगाने में तत्पर दिखते है।पौधों की सेवा वे स्वयं करते है।