Tue. Oct 26th, 2021

लकड़ी के पोल तथा जर्जर तार के सहारे की जा रही विद्युत आपूर्ति

Share this News

लापरवाह अधिकारियों के कारण कभी भी हो सकती है बड़ी दुर्घटना:- ग्रामीण

रिपोर्ट- चंदन कुमार मधुबनी

 

मधुबनी:-  बासोपट्टी प्रखंड क्षेत्र के बासोपट्टी पूर्वी पंचायत अंतर्गत वार्ड संख्या 9 में लकड़ी के 3 पोल के सहारे विद्युत आपूर्ति की जाती है। लकड़ी सड़ जाने के कारण सभी पोल मकान और सड़क के तरफ झुक गया है। जो आए दिन किसी बड़ी दुर्घटना होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। बिजली व्यवस्था को लेकर सरकार और विभाग का दावा हकीकत से कितना दूर है, इसका परिचय प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत पूर्वी पंचायत के वार्ड संख्या 9 में देखने को मिलता है। यहां जर्जर हो चुके लकड़ी के पोल के सहारे विद्युत आपूर्ति मौत को आमंत्रित कर रही है। आए दिन बिजली के तार टूट कर गिरते रहते हैं, दशकों पुराने जर्जर तारों के सहारे बिजली की आपूर्ति की जा रही है। कहीं-कहीं तो जर्जर लकड़ी के  पोल तथा बांस बल्ले पर झूलते तारों के सहारे बिजली टोले तथा लोगों के घर तक पहुंचाई गई है। जो हर वक्त किसी बड़े हादसे को आमंत्रित कर रहा है। इतना ही नहीं कहीं कहीं जमीन से 5 फीट की ऊंचाई पर तार लटका हुआ है। जिसके कारण इस रास्ते से होकर गुजरने वाले लोगों को हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। वार्ड नंबर नौ के ग्रामीण कमल प्रधान, संजय महतो, उत्तम, पंकज साह, सुरेश साफी,  भोगी पंडित, बाबू ठाकुर आदि ने बताया कि विद्युत व्यवस्था लोगों के लिए सिरदर्द बन चुका है। कभी भी निर्बाध गति से बिजली की आपूर्ति नहीं होती है, लो वोल्टेज तो आम बात हो गई है। आए दिन कहीं ना कहीं तार टूट कर गिरते रहते हैं, अधिकारियों से शिकायत करने पर एक दूसरे पर जिम्मेवारी थोप कर अपने दायित्व से पल्ला झाड़ लेते हैं। हालांकि ग्रामीणों की शिकायत पर कनीय अभियंता द्वारा बिजली मिस्त्री को भेजकर लकड़ी के पुल को फिर से सीधा खड़ा कर विद्युत आपूर्ति चालू कर दी गई है।

जर्जर तारों के कारण हो चुके हैं कई हादसे

पिछले वर्ष अरधावा पंचायत में ग्यारह हजार वोल्टेज तार के टूट जाने से मवेशी की मौत हो गई थी तथा किसान घायल हो गए थे। विधानसभा चुनाव के दौरान डामु पंचायत के मलकाना टोल निवासी एक युवक की मौत बिजली की एलटी तार के संपर्क में आने से हो गया था। ऐसे दर्जनों उदाहरण है जो बिजली विभाग की कार्यशैली पर सवाल खड़ा कर रहा है।