Tue. Oct 26th, 2021

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यशाला का आयोजन

Share this News

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर कार्यशाला का आयोजन

रिपोर्ट-आनंद वर्मा

जयप्रकाश महिला महाविद्यालय में ‘ अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ के अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. मधु प्रभा सिंह की अध्यक्षता में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसका विषय था ’21वीं शताब्दी में महिलाओं की भूमिका’। महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. मधु प्रभा सिंह ने अपने अध्यक्षीय भाषण में महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए जागरूक होने के बाद कहीं तथा नारी जीवन में शिक्षा का क्या महत्व है इस पर विस्तार से चर्चा किया। आज महिलाओं का वर्चस्व अंतरिक्ष से लेकर राजनीति, शिक्षा हर एक क्षेत्र में है। उन्होंने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि हम सभी के भीतर अपरिमित शक्तियां हैं उसे पहचानते हुए समय का सदुपयोग करते हुए लक्ष्य की ओर उन्मुख रहना है । अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के इस वर्ष के थीम ‘महिला नेतृत्व : कोविड-19 की दुनिया में एक समान भविष्य को प्राप्त करना’ पर बात करते हुए उन्होंने इस महामारी के दौर में महिलाओं के योगदान को रेखांकित किया।

कार्यक्रमका संचालन प्रो. नम्रता द्वारा किया गया । वही इतिहास की विभागाध्यक्ष डॉ. शिखा सिन्हा ने जेंडर और पितृसत्ता’ पर अपने विचार प्रस्तुत किया तथा बाल केंद्रित कार्यशाला में छात्राओं को प्रश्नोत्तरी के माध्यम से रोजमर्रा के जीवन में आने वाली कठिनाइयों और समस्याओं का समाधान किया। डॉ.चंदन ने “पितृसत्ता के ध्वजा वाहको’ पर अपने विचार प्रस्तुत किया। प्रो.चंचल ने ‘मानसिक अभियंत्रिकी बनाम मानसिक अनुबंध’ पर अपने विचार प्रस्तुत किया, डॉ. शबाना प्रवीण मल्लिक ने ‘वूमेन एंड लॉ इन इंडिया’ पर अपने विचार को रखा। डॉ.अंबिका श्रीवास्तव और डॉ. बबीता वर्धन ने ‘विज्ञान के क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका और योगदान’ पर अपने विचार को प्रस्तुत किया,डॉ. अलीना अली मलिक ने ‘डेर टू क्वेश्चन’ पर अपने विचार प्रस्तुत किया,डॉ. मुग्धा तथा डॉ. रिंकी ने भी सक्सेस स्टोरी पर अपने विचार अभिव्यक्त किए। महाविद्यालय की छात्राओं ने भी इस कार्यक्रम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और पोस्टर बनाकर लोगों को जागरूक किया। उपस्थित छात्राओं में सभी विभाग की छात्राओं नेहा, सुमन, रितु, सुनिधि, न्यासा, गरिमा, स्वाति, अनामिका, भूमि,करिश्मा, हर्षिका आदि ने समूह का प्रतिनिधित्व करते हुए दैनिक जीवन में होने वाली समस्याओं तथा महिला जीवन से जुड़े संघर्षों को अपने पोस्टर के माध्यम से दिखाते हुए उसे बेहतरीन ढंग से समझाया और प्रदर्शित किया।

उपस्थित शिक्षकों में डॉ.मंजू सिन्हा, डॉ. रेखा श्रीवास्तव, डॉ. पूनम, डॉ. अमरेंद्र, डॉ. वशिष्ठ, डॉ. अर्चना सिन्हा, डॉ. कुमारी नीतू सिंह आदि उपस्थित रहें और इस कार्यशाला को सफल बनाने में पूरे महाविद्यालय परिवार की सराहनीय भूमिका रही। कार्यक्रम का समापन अंग्रेजी विभाग की प्रो. चंचल ने अपने धन्यवाद ज्ञापन से किया।