Sat. Oct 31st, 2020

भोजपुरी फिल्म “दिल हमार माने ना” बहुत कठिनाई से बनी

Share this News

एक कहावत तो आप सबने सुनी होगी सब्र का फल मीठा होता है और ये कहाबत सच साबित किया है भोजपुरी फिल्म दिल हमार माने ने बहुत कठिनाई से बनी इस फिल्म ने बहुत सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए,इस फिल्म को बनाने में दो महिला ने अपना जी जान लगा दिया जब ये फिल्म शुरू हुई इस फिल्म के पहले दिन ही इस फ़िल्म के प्रोड्यूसर शूटिंग सेट छोड़कर भाग चुके थे,शूट ना रुके इसके लिए खुशबू सिंह जो कुमार नीरज की वाइफ है

और इस फ़िल्म के दूसरे निर्माता,वो अपने पति की मदद करने के लिए अपने सोने के सारे गहने और मंगलसूत्र तक बेच दिए थे बाद में जब ये सब खबर खुशबू सिंह के पिता जी श्री राजकिशोर सिंह को हुआ तो वो अपनी छोटी बेटी के सादी लिए जमा पैसे अपने दामाद डायरेक्टर कुमार नीरज की इज़्ज़त बचाने बंद हो चुके शूटिंग को फिर से चालू कराने में मदत की ,,ओर उसी दिन जब कुमार नीरज की बड़ी बहन मुन्नी सिंह जो इस फ़िल्म के निर्माता है

को पता चला के उनके भाई पहुत परेसान है तो शूटिंग पर पहुच कर सारी परेशानी को समझ खुद इस फ़िल्म को निर्माण करने का फैसला किया,ओर अपने छोटे भाई का कैरियर बचा ली, और इस तरह से उतार-चढ़ाव के बाद यह फिल्म कंप्लीट हुआ जहां आज भोजपुरी फ़िल्म को फैमली लोग देखना पसंद नहीं करते वहीं दिल हमार माने ना ने अपने नाम दो रिकॉर्ड हासिल कर लिया,,पहला इस फ़िल्म को tv पे देखे जाने वाले सबसे जेएदा दरसक मिले,वही इस फ़िल्म के चलने के दौरान सबसे जेएदा प्रचार मिला,आपको बता दूं की इस फिल्म में ना तो कोई नामी स्टार था ओर ना ही कोई वल्गर आइटम सॉन्ग और ना ही दो अर्थी डायलॉग,फिर भी इस फ़िल्म ने सबसे जेएदा दरसक अपने नाम किया,जहाँ भोजपुरी के जेएदा निर्माता निर्देसक वल्गर को प्रमोट कर फ़िल्म को हिट मानते है,वही दो महिला निर्माता मुन्नी सिंह और खुशबू सिंह ने अपने भोजपुरी माटी की सच्चाई फ़िल्म में दिखाई,जहाँ दूसरी फिल्मो में भाभी को एक घटिया मजाक बना दिया गया है वही दिल हमार माने ना में बड़ी भाभी को माँ समान दिखया गया है,जहां एक वर्ग भोजपुरी को बलगर के परोसे जाने से देखना या सुन्ना पसंद नही करते थे,वही इस फ़िल्म को बड़े बड़े घर की फैमिली ने एक साथ बैठ कर इस फ़िल्म को देख के इंजॉय किया,