Mon. Oct 26th, 2020

महात्मा गांधी जयंती के अवसर पर ‘रेलीवेंस आफ गॉधीयन फिलासफी एंड थॉट्स इन प्रेजेंट सिनेरियो’ विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार का सफल आयोजन हुआ।

Share this News

महात्मा गांधी जयंती के अवसर पर ‘रेलीवेंस आफ गॉधीयन फिलासफी एंड थॉट्स इन प्रेजेंट सिनेरियो’ विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार का सफल आयोजन हुआ।

बी.बी.एन-डेक्स

जयप्रकाश महिला महाविद्यालय छपरा की प्रधानाचार्य डॉ मधु प्रभा सिंह की अध्यक्षता में राजनीति विज्ञान विभाग द्वारा महात्मा गांधी जयंती के अवसर पर ‘रेलीवेंस आफ गॉधीयन फिलासफी एंड थॉट्स इन प्रेजेंट सिनेरियो’ विषय पर एक अंतरराष्ट्रीय वेबीनार का सफल आयोजन हुआ। कार्यक्रम का आरंभ कुलगीत के द्वारा किया गया।उसके उपरांत महाविद्यालय की प्रधानाचार्य ने सभी अतिथि गण, वक्ता गण, और प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए गांधी जयंती की शुभकामनाएं दी तथा कहा कि सत्य,न्याय और अहिंसा गॉंधी जी के दर्शन और विचारों के महत्वपूर्ण हथियार थे।इन्हें अपनाकर राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी समरस समाज की स्थापना की जा सकती है।उन्होंने कहा कि गॉंधी वादी दर्शन और विचार आगामी पीढ़ियों के लिए पथ प्रदर्शक का कार्य करेंगी।अंत: इन्हें अपने जीवन में आत्मसात करके गांधी के सपनों के भारत को साकार स्वरूप देने की आवश्यकता है

जिससे देश समग्र दृष्टि से संपन्न और विकसित हो।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित जयप्रकाश विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति प्रोफेसर फारुख अली ने गांधी जयंती के शुभ अवसर पर उद्घाटन संभाषण में हिंसा को परिवार, समाज, विश्व के मानचित्र से हटाने की बात कही तथा कहा कि हिंसा को हमें प्रेम से ही खत्म करना होगा । ज्ञान अच्छे व्यवहार के बिना व्यर्थ है ,विज्ञान तभी श्रेयस्कर है जब उसमें मानव का विकास हो ना कि विनाश।जीवन में समर्पण और त्याग ही सब कुछ है। ये सारी बातें गांधी जी के व्यक्तित्व से हमें सीखने और समझने की आवश्यकता आज भी है।विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रोफेसर लक्ष्मी नारायण सिंह ने भी गांधी जी के व्यक्तित्व और विचारों को आत्मसात करते हुए सत्य अहिंसा और प्रेम को जीवन में उतारने की बातें कहीं तथा वर्त्तमान में आत्मनिर्भर भारत अभियान आदि को गांधी के विचारों का ही समावेश बताया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता प्रोफेसर क्रिस्चियन बारटोल्फ, प्रेसिडेंट, गांधी इनफॉरमेशन सेंटर, बर्लिन, जर्मनी ने गांधी जी के विचारों को सभी से साझा करते हुए कहा कि वह सिर्फ एक देश के नहीं पूरे विश्व शांति के लिए कार्य करने वाले एक महान व्यक्ति थे।उन्होंने गांधी और अल्बर्ट आइंस्टीन के बीच के घनिष्टता पर प्रकाश डालते हुए बताया कि गांधी ने कैसे वैज्ञानिक समुदाय को भी प्रेरित किया जिसमें “रसल मैनिफ़ेस्टो” शामिल है। उन्होंने कहा कि गाँधी ने पूरे विश्व में शांति, अहिंसा, एवं बिना हिंसा के क्रांति का मार्ग प्रशस्त किया तथा बताया कि सत्य ही ईश्वर है।मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित आदरणीय प्रोफेसर रमेश सी. भारद्वाज डायरेक्टर ,गांधी भवन , दिल्ली विश्वविद्यालय और संस्कृत के विभागाध्यक्ष ,दिल्ली विश्वविद्यालय के द्वारा चंपारण आंदोलन को याद करते हुए कहा कि गांधीजी के लिए बिहार की भूमि अत्यंत महत्वपूर्ण थी । गांधी के सपनों का स्वराज कैसा था, कैसा है और होना चाहिए इन सभी बातों पर गहराई से सोचने और विचार करने को कहा। पश्चिमी संस्कृति से भारत की संस्कृति हमेशा ऊंचा रही है। भारतीयों को अपनी असीमता और गौरव को बनाए रखना है।उन्होंने गांधी के ग्राम स्वराज का वर्णन करते हुए बताया कि सामाजिक सौहार्द तथा सांस्कृतिक उत्थान के लिए उसका योगदान अक्षुण्ण है और कहा कि केवल भारत में ही ये शक्ति है जो पूरे विश्व को सही मार्ग दिखा सके। मुख्य वक्ता रही डॉ.अलका धनपत सीनियर लेक्चरर एंड हेड स्कूल ऑफ इंडियन स्टडीज डिपार्टमेंट ऑफ हिंदी स्टडीज, महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट, मॉरीशस के द्वारा गाँधी जी के विचारों की महिलाओं की दृष्टि से प्रासंगिकता पर बात करते हुए कहा कि गाँधी जी ने नारी को मुख्यधारा से जोड़ने का कार्य किया। गांधी जी ने महिलाओं को हमेशा पुरूषों से श्रेष्ठ बताया और कहा कि नारी-जागरण देश लिए ही नहीं विश्व के उत्थान लिए भी श्रेयस्कर है। उन्होंने कहा कि गॉंधी जी का विचार कि महिलाओं को अपने हक़ लिए स्वयं संघर्ष करना होगा;नितांत सही है।
प्रतिभागी के रूप में छत्तीसगढ़ से जुड़े प्रोफेसर कृष्ण कुमार ने भी अपने विचारों को अभिव्यक्त करते हुए उनके पद चिन्हों पर चलने की बातें कहीं।
कार्यक्रम का संचालन राजनीति विज्ञान विभाग की सहायक प्राध्यापिका डॉ. शबाना परवीन मल्लिक के द्वारा किया गया और धन्यवाद ज्ञापन राजनीति विभाग की डॉ. रिंकी कुमारी (आयोजन-सचिव)-/के द्वारा किया गया। कुलगीत को गाने वाली छात्राएँ-अपर्णा, प्रिया, श्रुति ने अपनी मधुर आवाज से सभी को भाव विभोर कर दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में आयोजन समिति की सदस्यों में राजनीति विज्ञान विभाग की डॉ. सोनाली सिंह, मनोविज्ञान विभाग की डॉ. नीतू सिंह, वनस्पति विभाग की डॉ.बबीता वर्धन, हिंदी विभाग की सुश्री नम्रता कुमारी, जंतु विभाग की सुश्री मुग्धा पांडे की सराहनीय भूमिका रही तथा इस कार्यक्रम को सफल बनाने में पूरे महाविद्यालय परिवार का भरपूर योगदान रहा।