Mon. Oct 26th, 2020

हॉकी के बेताज बादशाह मेजर ध्यानचंद जी के करिशमें

Share this News

हॉकी के बेताज बादशाह मेजर ध्यानचंद जी के करिशमें

बी.बी.एन-अमित नयन

कल यानी रविवार 29 अगस्त को सारा देश हॉकी के जादूगर के नाम से मशहूर मेजर ध्यानचंद जी के जन्मोत्सव को मनाने जा रहा है।
29 अगस्त के ही दिन साल 1905 में इलाहाबाद में मेजर ध्यानचंद का जन्म हुआ था। उनके जन्मदिन को देशभर में राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में भव्यता एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।हर वर्ष 29 अगस्त के ही दिन खेल में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न के अलावा अर्जुन और द्रोणाचार्य पुरस्कार दिए जाते हैं।कुछ उदाहरणों एवं प्रसंगों द्वारा हम यहां जानने की कोशिश करेंगे की, हाकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद जी के व्यक्तित्व एवं आचरण से हमें किन-किन चीजों एवं बारीकियों को सीखने एवं जानने की आवश्यकता है।ध्यान चंद ने 16 साल की उम्र में ही इंडियन आर्मी ज्वाइन कर ली थी, आर्मी में भर्ती होने के बाद उन्होंने हॉकी खेलना शुरू किया। ध्यान चंद घंटों प्रैक्टिस किया करते थे। यहां तक की देर रात तक वो प्रैक्टिस किया करते थे, रात में प्रैक्टिस करने के कारण ही उनके साथियों ने उनका नाम चांद रख दिया था 1928 में एम्सटर्डम में हुए ओलिंपिक खेलों में वह भारत की ओर से सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी रहे। उस टूर्नामेंट में ध्यान चंद ने 14 गोल किए थे। एम्सटर्डम के एक स्थानीय समाचार पत्र में लिखा था, ‘यह हॉकी नहीं बल्कि जादू था। और ध्यानचंद हॉकी के जादूगर हैं।क्रिकेट के सर्वकालिक महान बल्लेबाज माने जाने वाले सर डॉन ब्रैडमैन ने 1935 में ध्यानचंद से मुलाकात की थी। ब्रैडमैन ने ध्यानचंद के बारे में कहा था कि वह ऐसे गोल करते हैं जैसे क्रिकेट में रन बनाए जाते हैं।ध्यानचंद की महानता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वह दूसरे खिलाड़ियों की अपेक्षा इतने गोल कैसे कर लेते हैं। इसके लिए उनकी हॉकी स्टिक को ही तोड़ कर जांचा गया। नीदरलैंड्स में ध्यानचंद की हॉकी स्टिक तोड़कर यह चेक किया गया था कि कहीं इसमें चुंबक तो नहीं लगी।उनकी असली प्रतिभा उनके दिमाग़ में थी। वो उस ढ़ंग से हॉकी के मैदान को देख सकते थे जैसे शतरंज का खिलाड़ी चेस बोर्ड को देखता है। उनको बिना देखे ही पता होता था कि मैदान के किस हिस्से में उनकी टीम के खिलाड़ी और प्रतिद्वंदी मूव कर रहे हैं। 1947 के पूर्वी अफ़्रीका के दौरे के दौरान उन्होंने केडी सिंह बाबू को गेंद पास करने के बाद अपने ही गोल की तरफ़ अपना मुंह मोड़ लिया और बाबू की तरफ़ देखा तक नहीं। जब उनसे बाद में उनकी इस अजीब सी हरकत का कारण पूछा गया तो उनका जवाब था, “अगर उस पास पर भी बाबू गोल नहीं मार पाते तो उन्हें मेरी टीम में रहने का कोई हक़ नहीं था किसी खिलाड़ी की संपूर्णता का अंदाज़ा इसी बात से होता है कि वो आँखों पर पट्टी बाँध कर भी मैदान की ज्योमेट्री पर महारत हासिल कर पाए।

हॉकी बॉल के साथ गजब का नियंत्रण बनाने के कारण उन्हें हॉकी का जादूगर कहा जाने लगा।
बर्लिन ओलिंपिक में ध्यानचंद के शानदार प्रदर्शन से प्रभावित होकर हिटलर ने उन्हें डिनर पर आमंत्रित किया। इस तानाशाह ने उन्हें जर्मन फौज में बड़े पद पर जॉइन करने का न्योता दिया। हिटलर चाहता था कि ध्यानचंद जर्मनी के लिए हॉकी खेलें लेकिन ध्यानचंद ने इस ऑफर को सिरे से ठुकरा दिया उन्होंने कहा हिंदुस्तान ही मेरा वतन है और मैं जिंदगीभर उसी के लिए हॉकी खेलूंगाा वर्तमानपरिपेक्ष में मेजर ध्यानचंद जी के मानसिक दृश्यता एवं दृढ़ता,लक्ष्य साधने की भूख, सकारात्मक बदलाव एवं रुख मोड़ने की क्षमता से प्रेरणा लेकर हम अपने समाज में व्यापक बदलाव ला सकते हैं।