Tue. Oct 26th, 2021

बिहार के मुख्यमंत्री के जनता दरवार में गुजेंगा गांधी इंजिनियरिंग कॉलेज(GEC उड़ीसा) का मामला

Share this News

बिहार के मुख्यमंत्री के जनता दरवार में गुजेंगा गांधी इंजिनियरिंग कॉलेज(GEC उड़ीसा) का मामला

Bihar Desk- बताते चले कि गांधी इंजिनियरिंग कॉलेज उड़ीसा की ऐक बेहतरीन कॉलेज हुआ करती थी बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड में बिहार में सबसे लोकप्रिय कॉलेज में सुमार थी GEC कॉलेज जो खोर्धा में स्थित है बताते चले कि 2019/21 सेशन में बिहार के बहुत ज्यादा बच्चों ने इस कॉलेज में नमांकन लिया था पहले साल तक तो सब कुछ ठीक ठाक रहा उसके बाद कॉलेज ने अपना रंग दिखाना सुरू किया,GEC का ऐक स्टूडेंट से जब बात हुई तो उन्होने बताया कि हमलोग जब ऐडमिशन (नमांकन) गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज के करबाए थे तब कॉलेज 3 लाख में कोर्स फाईनल करने को बोला था पर अब कोर्स फी बढा दिया है शिक्षा विभाग को लिखित में हमलोग सभी बच्चे कॉलेज के खिलाफ शिकायत करने आए हैं

आगे बच्चों ने बताया कि हमलोग स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड से पढ रहे हैं उसमें कॉलेज जितना पैसा का फाईनल ईयर तक का बोनाफाईड बना कर देता हैं उतना ही पैसा सरकार हमलोग को देता हैं अब फीस बढा दिया गया है हम बच्चों सब कहाँ से बढा हुआ फीस देंगे ,बताया कि पहला साल तक कॉलेज का व्यवहार, खाना,होस्टल सब सही था उसके बाद खाना में घोर लापरवाही होने लगा जब इसका शिकायत किया गया तब कॉलेज सभी बच्चे से 2019/21 शेसन के बच्चे थे सबको हॉस्टल से निकाल दिया उस कॉलेज में नए नए बच्चों को फुसलाकर,बहलाकर,कॉलेज लाते हैं और हजारों रुपये पर बेच देते हैं सुत्रो से पता चला है की ऐक बच्चे का नमांकन करबाने पर गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज में हजारों रुपए कमीशन देती हैं,नया नया बच्चों को ऐक साल तक बढिया से रखने के बाद फिर उसका फीस बढा देता हैं मजबुरी मे बच्चे पढाई छोड़ देते हैं ऐसा ही GEC का चरित्र हैं ऐक घटिया कॉलेज का शिकायत करने आए बच्चों का कहना है की अगर कॉलेज पर कारवाई नहीं होती हैं तो हमलोग पटना में अनशन करेंगे

बढा हुआ फीस वापस लो अन्यथा कॉलेज हमारा दो साल का फीस वापस करो नारा के साथ बच्चों ने कालेज के खिलाफ नारेबाजी की है बताते चले कि इसी कॉलेज के ऐक विडियो वायरल हुआ था उस समय से ये कॉलेज पुरे बिहार में घटिया कॉलेज में सुमार हो गया है नाम गांधी इंजीनियरिंग कॉलेज (GEC)और काम घटिया

 

बच्चों ने बताया कि बढा हुआ पैसा नहीं देने पर फोन कर शोषण किया जाता हैं