Thu. Nov 30th, 2023

गंगा तट पर सिंगलयूज़ प्लास्टिक का उपयोग ना करने की अपील

Share this News

स्वच्छता हमारे जीवन के लिए उपयोगी ही नहीं, जीवनदायिनी भी है। 2 अक्तूबर, 2014 में प्रधानमंत्री के आह्वान के बाद लोगों ने स्वच्छता को अपनी जीवनशैली का मूलमंत्र बना लिया है। देश भर में 15 सितंबर से 2 अक्टूबर तक स्वच्छता पखवाड़ा- स्वच्छता ही सेवा 2023 में लोग बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। स्वच्छता के इस महा अभियान में अब तक 13 करोड़ से अधिक लोग भाग ले चुके है। इस पखवाड़े में पुरानी इमारतों की मरम्मत से ले कर जल-निकायों की सफाई, घाटों की सफाई से ले कर दीवारों को रंगने, नुक्कड़ नाटकों से ले कर रंगोली प्रतियोगिताओं जैसे सभी काम हो रहे हैं।

गंगा नदी और उसके किनारे बसे शहरों को कचरा मुक्त बनाए रखने की प्रतिबद्धता स्वच्छ भारत मिशन के लक्ष्य का महत्वपूर्ण पहलू है। उत्तर प्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय नदी दिवस पर कई शहरों ने गंगा नदी और उसके तट पर स्वच्छता अभियान का आयोजन किया। जिसके तहत प्रयागराज में संगम घाट पर 1000 से अधिक लोगों ने स्वच्छता ही सेवा पखवाड़ा में भाग ले कर श्रमदान किया। इन वालंटियर्स ने वहां न सिर्फ नदी के तट पर सफाई की बल्कि वहां घूमने आए लोगों से भी नदी और तट पर गंदगी न फैलाने की अपील की।

वहीं गोरखपुर में भी स्वच्छता पखवाड़ा- स्वच्छता ही सेवा में बच्चों द्वारा प्लॉग रन आयोजित कर वहां स्थित अमृत सरोवरों की साफ-सफाइ कर आस-पास के तटों की सफाई करते हुए लोगों में जागरूक कर लोगों से कचरा ना फैलाने और हरे व नीले कूड़ेदान का इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित किया। गोरखपुरनगर निगम ने ISL 2.0 के ब्रांड एंबेसडर एवं मशहूर भोजपुरी अभिनेता रविकिशन के माध्यम से लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने का महत्वपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किया। बताते चलें कि गोरखपुर स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने भी हिस्सा ले कर निरंतर शहर, नदी व तटों के आसपास स्वच्छता बरकरार रखने में दिन-रात जुटे सफाई मित्रों को सम्मानित किया।

वहीं मन की बात के 105वें एपिसोड में माननीय प्रधानमंत्री ने 1 अक्टूबर को सुबह 10 बजे सभी नागरिकों द्वारा सामूहिक रूप से स्वच्छता के लिए 1 घंटे के श्रमदान की अपील की, जो गांधी जयंती की पूर्व संध्या पर ही बापू को ‘स्वच्छांजलि’ होगी। इस कार्रयक्रम के दौरान हर स्थानीय शहरी निकाय और ग्राम पंचायत सफाई अभियान के लिए जगह का चयन करेगी। ये सभी स्थल एक मानचित्र पर उपलब्ध होंगे जिन्हें सभी नागरिक स्वच्छता ही सेवा- सिटिजनपोर्टल https://swachhatahiseva.com/ पर उपलब्ध विकल्पों के माध्यम से देख और चुन पाएंगे।