Fri. Jan 21st, 2022

प्रथम महिला शिक्षिका “सावित्रीबाई फुले” जयंती पर विशेष

Share this News

प्रथम महिला शिक्षिका “सावित्रीबाई फुले” जयंती पर विशेष

BBJ-NEWS

सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले (3 जनवरी,1831-10 मार्च,1897) भारत की प्रथम महिला शिक्षिका,समाज सुधारिका एवं मराठी कवयित्री थी।उन्होंने स्त्री अधिकारों एवं शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए।वह प्रथम महिला शिक्षिका थी।1852 में उन्होंने बालिकाओं के लिए एक विद्यालय की स्थापना की।

सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक थी।महात्मा ज्योतिबा को महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन में एक सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में माना जाता है।उनको महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाता है।

सावित्रीबाई ने अपने जीवन को एक मिशन की तरह से जीया,जिसका उद्देश्य था विधवा विवाह करवाना,छुआछूत मिटाना,महिलाओं की मुक्ति और शिक्षित बनाना।

10 मार्च 1897 को प्लेग के कारण सावित्रीबाई फुले का निधन हो गया।प्लेग महामारी में सावित्रीबाई प्लेग के मरीजों की सेवा करती थी।एक प्लेग के छूत से प्रभावित बच्चे की सेवा करने के कारण इनको भी छूत लग गया और इसी कारण से उनकी मृत्यु हो गई।