Wed. Apr 17th, 2024

बंद पड़े स्वास्थ्य केंद्र को चालू करवाने हेतु MSU प्रतिबद्ध अविनाश भारद्वाज

Share this News

बंद पड़े स्वास्थ्य केंद्र को चालू करवाने हेतु MSU प्रतिबद्ध अविनाश भारद्वाज

रिपोर्ट-संजय मंडल

मिथिला स्टूडेंट यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अविनाश भारद्वाज के नेतृत्व में बंद पड़े APHC व स्वास्थ्य उपकेंद्र का निरीक्षण किया गया । इस अभियान के अंतर्गत आज बिरौल प्रखंड के सहसराम पंचायत स्थित अथार स्वास्थ्य उपकेंद्र का निरीक्षण राष्ट्रीय अध्यक्ष ने किया । वहाँ की बेकार पड़ी व्यवस्था को देखकर राज्यसरकार पर जमकर हमला बोला । निरीक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि अथार के स्वास्थ्य उपकेंद्र पर गोबर , मिट्टी एव कचरा जमा है एव सुविधा नाम पर वहाँ कुछ भी नही है । वही स्वास्थ्य केंद्र , बिहार सरकार एव स्वास्थ्य विभाग के अधीन भी नही है । किसी भी प्रकार की सुविधा नही है राष्ट्रीय अध्यक्ष अविनाश भारद्वाज ने स्थानीय ग्रामीण व कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि -ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को निशुल्क उपचार उपलब्ध कराना महज दिखावा बनकर रह गया है। क्योंकि कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां पर पिछले कई महीने से ताला लटक रहा है। ग्रामीणों को स्वास्थ्य लाभ मुहैया करवाने के उद्देश्य से सरकार ने गाव में उप-स्वास्थ्य केन्द्र खोला था। लेकिन यह ग्रामीणों का दुर्भाग्य ही रहा कि लाखों रुपये की लागत से बने उप-स्वास्थ्य केन्द्र पर वषरें से ताला लटका हुआ है। ग्रामीण उपचार के लिए झोलाझाप की शरण लेने को मजबूर हैं। गाव से कस्बे तक कोई सरकारी बस सेवा की सुविधा न होने पर आपातकालीन स्थिति में समय पर मिलने वाली चिकित्सा सुविधा की संभावना क्षीण हो जाती है। यूं तो उप-स्वास्थ्य केंद्र पर चिकित्सा सुविधा का लाभ न मिलने पर सभी ग्रामीण परेशान है।उपयोग न होने के कारण जहा भवन जीर्ण होने लगा है। वही समय पर उपचार मिलने के अभाव में गंभीर बीमारी वाले मरीज अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ जाते है। गरीब व असहाय परिवार निजी अस्पतालों में इलाज लेने को मजबूर हैं। लेकिन विभाग उप-स्वास्थ्य केन्द्र पर स्टाफ की नियुक्ति पर ध्यान ही नही दे रहा है

गांवों में संक्रमण फ़ैल चुका है , लोग मर रहे हैं। सरकार सोई हुई है, ना जांच ना दवाई और ना ईलाज। गांवों को सरकार ने राम भरोसे छोड़ दिया है। झूठे आंकड़ों से सब ठीक बताया जा रहा है। लेकिन सच्चाई हम और आप जानते हैं। अपने आसपास और जान पहचान मे महसूस करते हैं।ये वक्त सरकारों के तरह चैन से बैठने को नहीं है। हमारे गांवों के अस्पताल बंद पड़े हुए हैं और हमारे लोग ईलाज बिना मर रहे हैं। ये वक्त है भिड़ने का। ये वक्त है जागरूक और एकजुट होने का। ये वक्त है बंद पड़े अस्पतालों को लड़कर चालू करवाने का और नवनिर्मित अस्पतालों में डॉक्टरों की भर्ती के लिए आवाज उठाने का। ये जीवन बचाने की लड़ाई है। बिहार तभी बचा रह सकता है जब हमारे PHC, APHC, वेलनेस सेंटर ग्रामीण स्तर पर पूर्ण सक्रियता से काम करें। आइए एकजुट होते हैं। अपने अपने गांवों के लिए आवाज उठाएं, वहां के अस्पताल चालू करवाने की लड़ाई लड़ें। आवाज़ उठाने में एक दूसरे की मदद करें। इस मौके पर सुधीर कुमार शर्मा , राघव चौधरी , अनिल मंडल , रंजीत रा। समेत दर्जनों ग्रामीण व कार्यकर्ता उपस्थित थे ।