Fri. Jan 27th, 2023

दिल्ली में चिराग समर्थक युवा एलजेपी कार्यकर्ताओं का बाग़ी सांसदों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन

Share this News

दिल्ली के बंगलों में एलजेपी नेताओं के बीच पड़ी फूट का असर अब सड़कों पर दिखने लगा है.  दिल्ली में चिराग समर्थक युवा एलजेपी कार्यकर्ताओं का बाग़ी सांसदों के ख़िलाफ़ विरोध जारी है।

इसी क्रम में डॉ विकाश सिंह (राष्ट्रीय अध्यक्ष लोजपा युवा) के नेतृत्व  में दिल्ली के लोजपा युवा दल ने बागी सांसदों के खिलाफ पशुपति पारस के दिल्ली आवास पर प्रदर्शन  किया। डॉ विकाश सिंह से बातचीत में उन्होंने बताया  की ” पार्टी के पांच सांसद मिलकर श्री चिराग पासवान के साथ विश्वासघात किया है , लोक जन शक्ति पार्टी  के लाखो कार्यकर्ताओं और दलित -पिछड़ी  जनता के सपनो को तोडा है, जो चिराग पासवान जी के नेतृत्व  में ऊँची उड़ान भरने का सपना देख रहे थे।  ” 

इस प्रदर्शन में साथ में लोजपा युवा के सौरभ सिंह  (प्रदेश महासचिव ) दीपेश सिंह (प्रदेश महासचिव ) प्रमोद कुमार वर्मा (प्रदेश महासचिव )प्रदीप झा (जिला अध्यक्ष ), अखिलेश कुमार (जिला अध्यक्ष),और अनेकों युवा कार्यकर्ता शामिल हुए। 

बता दे की चिराग पासवान ने बुधवार सुबह लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को पत्र लिखकर सोमवार को लिए गए अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करने और चिराग पासवान को सदन में पार्टी का नेता घोषित करने की अपील की है. इसके साथ ही उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा है कि वह ही पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और “यह पद सिर्फ़ दो परिस्थितियों में खाली हो सकता है, जब राष्ट्रीय अध्यक्ष का निधन हो जाए या राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वयं इस्तीफ़ा दे दे.”

दूसरी तरफ़ हाज़ीपुर से सांसद पशुपति कुमार पारस गुट के प्रवक्ता ने  कहा, “चिराग पासवान के पास हमारे फ़ैसले को चुनाव आयोग या सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का अधिकार है. वो जहाँ चाहें वहाँ जा सकते हैं.”

चिराग पासवान ने किया भावुक ट्वीट

गौरतलब है कि पार्टी में हुई बगावत को लेकर चिराग पासवान ने पहली बार चुप्पी तोड़ी। उन्होंने अपने चाचा के नाम के नाम भावुक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि पापा की मौत के बाद आपके व्यवहार से मैं टूट गया। मैं पार्टी और परिवार को साथ रखने में असफल रहा। बता दें कि चिराग एक पुराना पत्र भी ट्विटर पर साझा किया। चिराग पासवान ने ट्वीट में लिखा, ‘पापा की बनाई इस पार्टी और अपने परिवार को साथ रखने के लिए किए मैंने प्रयास किया, लेकिन असफल रहापार्टी मां के समान है और मां के साथ धोखा नहीं करना चाहिए। लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि है। पार्टी में आस्था रखने वाले लोगों का मैं धन्यवाद देता हूं।”

ऐसे में अब तक इस मामले में जो कुछ सामने आया है, उससे एक चीज़ साफ़ हो चुकी है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व.राम विलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी अब दो गुटों में बंट चुकी है. एक धड़ा उनके बेटे चिराग पासवान के साथ है, वहीं दूसरा धड़ा उनके भाई पशुपति कुमार पारस के साथ है. दोनों गुट ख़ुद को असली एलजेपी का दावेदार बता रहे हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि चिराग पासवान या पारस गुट पार्टी संविधान में अपने अधिकार में हनन के मामले को लेकर क्या कर सकता है।