Wed. Jun 19th, 2024

पटना में गंगा नदी में तैरता मिला ‘राम युग’ का पत्थर! वजन करने पर बढ़ने लगता है भार

Share this News

पटना में गंगा नदी में आज एक तैरता हुआ पत्थर मिला. पत्थर पर ‘राम’ लिखा हुआ था. लोगों ने पत्थर को नदी से निकालकर राजा घाट स्थित मंदिर प्रांगण रख दिया. काफी संख्या में श्रद्धालू पत्थर का दर्शन-पूजन करने के लिए पहुंच रहे हैं.

बिहार की राजधानी पटना स्थित राजा घाट के पास गंगा नदी में तैरता हुआ एक पत्थर मिला. तैरते हुए पत्थर को देख लोग अचंभित रह गए. लोगों ने साहस दिखाया और दो युवक ने तैर कर पत्थर को गंगा से बाहर निकाला. जब पत्थर को बाहर निकाल कर लाया गया तो लोगों ने देखा कि पत्थर पर राम लिखा हुआ था. स्थानीय लोगों ने इस पत्थर को राजा घाट के पास ही एक मंदिर के प्रांगण में रख दिया. लोग इसे राम सेतु की शिला बता रहे हैं.

वहीं गंगा से पत्थर निकाले जाने और उस पर राम लिखे होने की सूचना जैसे ही लोगों को मिली, तब उसके दर्शन-पूजन के लिए पहुंचने लगे. लगातार श्रद्धालुओं का राजा घाट पर आना-जाना लगा है. श्रद्धालुओं का कहना है कि वह इस पत्थर राम लिखा है. वह इसका दर्शन कर अपने आप को धन्य मान रहे हैं. यह राम सेतु की ही शिला है.

वजन करने पर बढ़ने लगता है पत्थर का भार


संवाददाता से बात करते हुए एक स्थानीय निवासी हर्ष कुमार ने कहा कि जब इस पत्थर का वजन किया गया तो पहली बार इसका वजन नौ किलोग्राम था, लेकिन धीरे-धीरे इसका वजन बढ़कर 14 किलो हो गया. वजन बढ़ता देख हम लोगों ने फिर वजन ही नहीं किया.

हर्ष कुमार ने बताया कि राजा घाट पर भगवान श्रीराम की पूजा हमेशा की जाती है. बीते वर्षों में सावन के महीने में भी कई चमत्कारिक जीव-जंतु भी मिले हैं. पिछले वर्ष गोल्डन कलर का एक कछुआ इसी घाट पर मिला था, जिसे फिर गंगा में प्रवाहित कर दिया गया था.

पटना में पहले से मौजूद हैं रामसेतु के 3 शिलाएं


पानी में तैरने वाले पत्थर यानी राम सेतु की तीन शिलाएं पटना में पहले से मौजूद हैं. एक शिला पटना के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर में, दूसरी शिला विश्व हिंदू परिषद कार्यालय में और वहीं तीसरा शिला पटना के प्रसिद्ध पाटन देवी मंदिर के प्रांगण में स्थापित है. राजा घाट पर मिले इस प्रकार के पत्थर में इसकी संख्या अब चार हो गई है

Latest News