Tue. Oct 26th, 2021

मानव श्रृंखला बनाकर विश्व में इतिहास रचा बिहार- आनंद शंकर

Share this News

इतिहास हौसले से बनता है और यदि हौसला बच्चे, बूढ़े, जवान सब में हो तो यह दुनिया में रिकॉर्ड स्थापित करता है। कल बिहार में 18 हजार किलोमीटर से भी लंबी मानव श्रृंखला उसी हौसले और हौसले से बने इतिहास की कहानी बन गई। करीब साढ़े पांच करोड़ लोगों के इस अद्भुत मानव श्रृंखला में हिस्सा लेने का सौभाग्य मुझे भी मिला और मैं भी इस बनते इतिहास का एक साक्षी हूँ।जल जीवन हरियाली, नशा मुक्ति अभियान या दहेज प्रथा; ये कोई मामूली अभियान नहीं है। यह जीवन और समाज से संबंधित विषय है। जल है तो जीवन है, पर्यावरण है तो नियमित वर्षा है, नियमित बर्षा है तो कृषि है, कृषि उपज है तो सबके लिए भोजन है, सबके लिए भोजन है तो सभी स्वस्थ हैं, उचित शिक्षा और स्वास्थ्य सही है तभी देश की प्रगति संभव है।
इतने बड़े अभियान का मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, बिहार के करोड़ों नौजवान, बच्चे, माताएं-बहने सभी सम्मान के हकदार हैं।
पूरी दुनिया ने देखा कि दिल में जज्बा हो, हौसले हो तो इतिहास बन जाता है। बिहार की यह मानव श्रृंखला केवल बिहार तक सीमित नहीं है, इसका संदेश पूरे भारत को है बल्कि पूरे विश्व को है। जल और पर्यावरण है तभी समाज और देश का विकास है। समाज और देश के विकास के लिए सबको साथ आना जरूरी है। पर्यावरण के लिए जन जागृति जरूरी है, समरसता जरूरी है, भाईचारा ज्यादा जरूरी है, सभी प्रकार के बुराईयों से निजात जरूरी है और सबसे ऊपर दृढ़ संकल्प के साथ एक प्रयास जरूरी है। बिहार में आयोजित मानव श्रृंखला इन्हीं जरूरतों को दर्शाती है और उसे पूरा करने की तत्परता दिखाती है। दुनिया भर में कई मंचों से पर्यावरण को बचाने के लिए राष्ट्राध्यक्षों की मीटिंग्स हो रही हैं। उनको जोड़ने का यह अभियान बिहार ने शुरू किया है लोग जागरूक होंगे जल संरक्षण होगा तभी पर्यावरण बचेगा तभी धरती हरियाली होगी सभी लोगों का भरण पोषण होगा सभी लोग खुश होंगे और तभी अपना बिहार और देश समग्र विकास करेगा।
मैं भी ऐसी प्रासंगिक श्रृंखला का एक अंश बना, मेरी गुजारिश है अपने नौजवान भाइयों से कि जल संरक्षण और मानवता सृजन के लिए आ. प्रधानमंत्री जी के आह्वान का और बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार की कोशिशों का भरपूर साथ दें, समाज बनाएं और देश बनाएं।