Tue. Oct 26th, 2021

शिक्षा और रोजगार के सवाल पर 24 जनवरी को रालोसपा बनाएगी मानव कतार

Share this News

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लोगों को गुमराह करने और सिर्फ प्रवचन देने का आरोप लगाया है रालोसपा बिहार सरकार के छात्रों और युवा विरोधी रवैया के खिलाफ जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर 24 जनवरी को बिहार भर में सरकारी विद्यालयों के बाहर मानव कतार लगाकर शिक्षा और रोजगार के सवाल को गांव, शहर, गली सड़क, चौक-चौराहा इत्यादि पर चलने वाली चर्चा परिचर्चा का मुख्य विषय बनाना चाहती है।ताकि यह विषय आगामी चुनाव का मुद्दा बन पाये।
पार्टी ने कहा कि मुख्यमंत्री बनने से पहले जो वचन बिहार के आम आवाम के लिए नीतीश कुमार ने दिया था मुख्यमंत्री बनने के बाद वे अपने वचन को निभाने में पूरी तरह नाकाम रहे। छपरा में प्रेस वार्ता के दौरान डॉ संतोष प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री बनने से पहले नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को बच्चों के लिए शिक्षा, गरीबों के लिए स्वास्थ, नौजवानों के लिए रोजगार और सुशासन के साथ-साथ बिहार में बहार का वादा किया था। लेकिन उन्होंने न वचन निभाया और ना वादा। बिहार आज बदहाल है और नीतीश कुमार हर मोर्चे पर नाकाम साबित हुए।उन्होंने ने कहा कि नीतीश कुमार जनता को अपने कार्यों का रिपोर्ट कार्ड देने की बजाय गांव-गांव घूमकर प्रवचन दे रहे हैं कि आम जनता को क्या करना चाहिए। लेकिन शिक्षा और रोजगार जैसे मुद्दों पर बात नहीं कर रहे हैं, जिलाध्यक्ष डाॅ.अशोक कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार के युवा छात्र विरोधी रवैया के खिलाफ मानव कतार बनाकर बिहार के लोगों को जागरूक करेगी। बिहार में शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह चरमराई हुई है नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री बनने के बाद सरकारी विद्यालयों में शिक्षा व्यवस्था और चौपट हुई है। रिपोर्ट के अनुसार अभी विद्यालयों में सुविधाओं का घोर अभाव है बड़ी संख्या में शिक्षकों के पद खाली हैं सुविधाओं की कमी की वजह से बच्चे टिक नहीं पा रहे हैं। शिक्षकों के पास पढ़ाने के अलावा कई काम है उच्च विद्यालय, प्लस टू विद्यालय में गणित व विज्ञान के शिक्षकों की नियुक्ति की रणनीति 2015 में बने हुए। बच्चों के लिए क्वालिटी एजुकेशन जरूरी है लेकिन सरकार ऐसी करने में पूरी तरह नाकाम रही है जाहिर है कि इन सरकारी विद्यालयों में गरीबों, पिछड़ों, दलितों के बच्चे पढ़ते हैं और उन्हें बेहतर शिक्षा सरकारी उपेक्षा की वजह से नहीं मिल पा रही है। बिहार में पिछले 15 सालों में रोजगार की समस्या बढ़ी है और कई संस्थाओं की रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है कि राज्य में पिछले 15 सालों से रोजगार के लिए 25 फ़ीसदी इजाफा हुआ है। मजदूर मिल नहीं लगा पा रही है दूसरे राज्यों में कमाने खाने गरीब घरों के युवाओं को जाना जारी है। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी पिछले कई सालों से शिक्षा के सवाल पर आंदोलन करती रही है शिक्षा और रोजगार के मामले में सरकार सिर्फ घोषणाओं पर यकीन रखती है छात्र रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल सिंह ने बताया कि नीतीश कुमार और डबल इंजन की सरकार शिक्षा व्यवस्था को बेहतर करने और गरीब दलित पिछड़ों व वंचितों के बेहतर शिक्षा देने में उसकी रुचि रखती है शिक्षा व रोजगार के सवाल पर राज्य के सभी स्कूलों के सामने सुबह 11:30 बजे से 12:00 बजे तक हमने मानव कातार लगाने का कार्यक्रम बनाया है ताकि हम लोगों को बता सकें कि यह सरकार गरीबों, दलितों और वंचितों को न तो बेहतर शिक्षा दिलाने में दिलचस्पी रखती है। और ना ही रोजगार सृजन को लेकर गंभीर है। आम जनता से अपील है कि 24 जनवरी को अपने आसपास की विद्यालय में अधिक से अधिक संख्या में शामिल हो