Tue. Oct 26th, 2021

जेपीयू के इतिहास में सबसे अराजक एवं भ्रष्ट कुलपति:- आर एस ए

Share this News

कुलपति के आर्थिक भ्रष्टाचार के खेल को आर एस ए के नेताओं के द्वारा सबूत के साथ रखा गया

आज दिनांक 17 जनवरी 2020 को आर एस ए के नेताओं के द्वारा प्रेस वार्ता कर जयप्रकाश विश्वविद्यालय में हुए आर्थिक भ्रष्टाचार की खुलासा किया गया। नेताओं के द्वारा बताया गया कि महामहिम राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव बिहार सरकार, प्रधान सचिव राज्यपाल सचिवालय ,प्रधान सचिव उच्च शिक्षा, निदेशक उच्च शिक्षा शिक्षा विभाग बिहार पटना को यह जानकारी संगठन के नेता उज्जवल कुमार सिंह के द्वारा तथ्य एवं सबूत के साथ दे दिया गया है।

नेताओं द्वारा कहा गया कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर हरिकेश सिंह के द्वारा विगत 3 वर्षों में भारी लूट एवं गलत कार्य किए गए हैं। जयप्रकाश विश्वविद्यालय के इतिहास में इतना बड़ा अराजक एवं भ्रष्ट कुलपति कभी नहीं देखा गया है।

नेताओं ने कहा कि कुलपति द्वारा बनावटी फर्जी वित्त समिति द्वारा सारे बजट 2017- 19 पास कराए गए हैं। तथा बहुत सारे मद पर अनधिकृत रूप से खर्च कर मुहर लगाए गए।

वित्त समिति में सीनेट द्वारा चार निर्वाचित सदस्य होते हैं। जबकि विश्वविद्यालय द्वारा गठित वित्त समिति में केवल एक ही सीनेट के मेंबर है। जो फर्जी गलत रूप से हैं क्योंकि इनका निर्वाचन समिति के रूप में वर्ष 2006 -2007 में हुआ था। लेकिन बीच में एमसीआई द्वारा इनकी सदस्यता वहां से खत्म कर दी गई थी। तथा उसके बाद सीनेट में वित्त समिति हेतु उनका निर्वाचन नहीं हुआ। फिर भी उनका अनुचित गलत रूप से रखकर कार्य लिया जा रहा है। जो विश्वविद्यालय अधिनियम का घोर उल्लंघन है। वित्त समिति में राज्य सरकार द्वारा एक नामित सदस्य होते हैं ।जो आज तक इनके कार्यकाल में नहीं आए ।अतः इनके कार्यकाल में वित्त समिति में जितने भी निर्णय लिए गए वह गलत हैं तथा विश्वविद्यालय अधिनियम के विरुद्ध है क्योंकि वित्त समिति में कोई भी कोरम पूरा नहीं हुआ है।

वित्त समिति की आहूत बैठक दिनांक 27 मार्च 2019 वित्त समिति की बैठक दिनांक 22-12-2018 की कार्रवाई देखी जा सकती है।

वित्त समिति की संपन्न हुई बैठक दिनांक 27 मार्च 2019 के मद संख्या 5 पर विश्वविद्यालय के रंग रोगन के लिए कुल राशि ₹871000 की स्वीकृति प्रदान की गई तथा उक्त कार्य हेतु राशि ₹100000 अग्रिम किया गया। उक्त कार्य हेतु ना किसी भी समाचार पत्र में विज्ञापन, ना विश्वविद्यालय के वेबसाइट पर कोई भी सूचना तथा ना ही विश्वविद्यालय मुख्यालय के नोटिस बोर्ड पर भी निविदा आमंत्रण सूचना, ना ही कोटेशन आमंत्रण सूचना निकाला गया। जो बिहार वित्तीय नियमावली का घोर उल्लंघन है।

चतुर्थ दीक्षांत समारोह 2019 के आयोजन हेतु टेंट लाइट एवं साउंड सिस्टम हेतु कुल राशि ₹1743100 व्यय करने की स्वीकृति वित्त समिति की आहूत बैठक दिनांक 27 मार्च 2019 के मध्य संख्या 7 पर प्रदान की गई है। उक्त कार्य हेतु भी ना ही किसी समाचार पत्र में विज्ञापन ना ही विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर ना ही विश्वविद्यालय के सूचना पट्ट पर कोई सूचना निकाला गया ।जो बिहार वित्तीय नियमावली का घोर उल्लंघन है।
चतुर्थ दीक्षांत समारोह 2019 में खाने की व्यवस्था के नाम पर कुल अनुमानित राशि 600000 की स्वीकृति प्रदान की गई। उक्त कार्य हेतु वित्त समिति की आहूत बैठक दिनांक 27 मार्च 2019 के मध्य संख्या 12 पर दिया गया। उक्त कार्य हेतु भी ना ही किसी समाचार पत्र में विज्ञापन नहीं विश्वविद्यालय के वेबसाइट पर ना ही विश्वविद्यालय के नोटिस बोर्ड पर दिया गया ।जो बिहार वित्तीय नियमावली का उल्लंघन है।

वित्त समिति के आहूत बैठक दिनांक 27 मार्च 2019 के मध्य संख्या 14 पर जिक्र किया गया है कि आदर्श आचार संहिता लागू होने के कारण चतुर्थ दीक्षांत समारोह 2019 की व्यवस्था हेतु पंडाल जलपान रंग रोगन इत्यादि हेतु स्थानीय स्तर पर कोटेशन लेकर कराए जाने की सहमति सर्वसम्मति से स्वीकृति प्रदान की गई। उक्त तथ्यों के संबंध में कहना है कि नहीं ऐसा निर्णय लेने का अधिकार फर्जी गलत वित्त समिति को नहीं है । तथा स्थानीय स्तर पर कोटेशन प्राप्त करने के लिए ना ही कोई भी इस कार्य से संबंधित कोटेशन आमंत्रण सूचना विश्वविद्यालय के सूचना पट्ट तथा ना ही किसी सार्वजनिक स्थल पर दिया गया और ना ही आदर्श आचार संहिता लागू होने के कारण संबंध में जिला पदाधिकारी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी से भी पत्राचार इस संबंध में किया गया। जैसा कि वित्त समिति के निर्णय से प्रतीत होता है ।सभी कार्य जैसे अंग वस्त्र वस्त्रम, खाना की आपूर्ति तथा पंडाल निर्माण इत्यादि का निर्माण कुछ अपने लोगों को लाभ पहुंचा कर कमीशन लेने के लिए किया गया।
वित्त समिति के आहूत बैठक दिनांक 18 तीन 2019 के मद संख्या 17 पर अगस्त से दिसंबर 2018 तक प्रतिमाह राशि ₹13872 के दर से कुल राशि ₹759784 का भुगतान किया गया है। समिति के आहूत बैठक में दिनांक 17-04-2018 के अन्यान्य संख्या 7 बेल्ट्रॉन संस्था से 15 कंप्यूटर ऑपरेटर की तैनाती हेतु खर्च होने वाली राशि 2497680 रुपे दी गई । जो वेल्ट्रॉन द्वारा पत्र में दर के अनुसार 1 वर्ष के लिए है। पुनः वित्त समिति के आहूत बैठक दिनांक 27 8 2019 के मद संख्या दो पर बेल्ट्रान द्वारा नियुक्त कर्मियों को पुनरीक्षित दर के आधार पर भुगतान उपरांत घाटनोतर स्वीकृति पर सर्वसम्मति से बढ़े हुए दर से भुगतान की स्वीकृति प्रदान कर लगभग 10 लाख नाजायज़ ढंग से भुगतान कर उगाही की गई है ।जो वित्त समिति के विभिन्न बैठकों में लिए गए निर्णय से स्वतः स्पष्ट है। बेल्ट्रॉन के कर्मचारियों को नाजायज ढंग से रखकर अभी भी भुगतान किया जा रहा है ।

कुलपति द्वारा बिना समाचार पत्र में कोटेशन या निकाले अंगवस्त्रम मालवीय पगड़ी इत्यादि के नाम पर लगभग ₹1200000 का भुगतान मंगलम इंटरप्राइजेज वाराणसी को किया गया। सप्लायर बनारस का रहने वाला है पूर्व से कुलपति तथा उनके लड़के के संपर्क का है ।क्योंकि किसी भी सामान का क्रय बिहार नियमावली 2017 के आलोक में 50000 से ऊपर का क्रय जेम से किया जाना है। जबकि वर्तमान कुलपति द्वारा बिना किसी वित्तीय नियमावली का पालन किए। बिना उक्त सामग्रियों का क्रय किया गया है। कमीशन के रूप में लगभग भुगतान किए गए राशि का 65 से 70% कमीशन के रूप में लिया गया। बिहार वित्तीय कानून की धज्जियां उड़ाते हुए ।आपूर्तिकर्ता को फायदा पहुंचाया गया तथा अपने भी कमीशन के रूप में लाभ लिए गए फर्जी वित्त समिति की बैठक 278 2019 के मद संख्या 9 पर देखा जा सकता है कि पूर्व में संपन्न हुई दीक्षांत समारोह में अंगवस्त्रम के नाम पर केवल एक लाख से डेढ़ लाख रुपया तक खर्च होते थे ।जबकि इनके द्वारा लगभग एक ही मद में 10 गुना अधिक राशि बिना निविदा की खर्च की गई है।
उक्त सभी बिंदुओं पर करवाई करने हेतु महामहिम राज्यपाल ,मुख्यमंत्री को लिखा गया है। ऐसे व्यक्ति को 1 मिनट भी अपने पद पर नहीं बने रहना चाहिए। यह तुरंत अगर थोड़ी सी भी लाज हाया बचा हुआ है तो तुरंत इस्तीफा देकर कानून के हवाले अपने आप को कर देना चाहिए। संगठन जितने आरोप लगाए हैं वह सारे सबूत संगठन के पास हैं। अगर महामहिम कुलाधिपति एवं मुख्यमंत्री के तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है तो कोर्ट के दरवाजा भी खटखटाया जाएगा। किसी भी कीमत पर विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार नहीं होने देगा संगठन। प्रेस वार्ता में प्रमुख रूप से अभिषेक यादव उर्फ सोनू राय ,उज्जवल कुमार सिंह, कुणाल सिंह ,विवेक कुमार विजय, विकास सिंह सेंगर आदि मौजूद थे