Wed. Jun 19th, 2024

बिहार सरकार द्वारा शराबबंदी निहायत ही आत्मविश्वासी निर्णय है:आफ़ताब आलम खान।

Share this News

बिहार सरकार द्वारा शराबबंदी निहायत ही आत्मविश्वासी निर्णय है:आफ़ताब आलम खान।

BBJ-NEWS

बिहार में शराबबंदी के खिलाफ आपके अपने तर्क और निहितार्थ हो सकते है, लेकिन शराबबंदी एवं नशाबंदी एक व्यापक जनपक्षीय पहल है। जहरीली शराब से मृत्यु बिहार ही नहीं बल्कि भारत के उन राज्यों में भी होती है जहां शराब वैद्य है।

हमारे शहर गावँ मोहल्ले के चौक चौराहों पर शराबबंदी के पूर्व किसी भी परिवार की महिलाएं ,बच्चियां एवं सभ्य नागरिक प्रायः किसी न किसी अप्रिय घटनाओं के शिकार होते रहते थे। लेकिन आज मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि आज बिहार से शराबी पियक्कड़ों का मेला खत्म हो गया है ।

हां मैं शराब बंदी के खिलाफ बात कहने वालों के इस तर्क से तो मैं सहमत हूं कि 100% अभी शराब बंद नहीं है। चोरी-छिपे शराब एवं नशाखोरी हो रही है। लेकिन इमानदारी से मैं मानता हूं कि शराबबंदी के कारण शराबियों पर काफी हद तक अंकुश लगा है, और कुछ हद तक शराब बंदी राज्य का एक सफल अभियान है।

कोई भी संकल्प केवल सरकार के भरोसे पूरी नहीं की जा सकती जब तक कि उसमें समाज की भागीदारी न हो। लोकतंत्र में ऐसा कोई भी काम केवल अकेले समाज नहीं कर सकता जिसमें सरकार का सहकार ना हो। अर्थात राज एवं समाज का परस्पर पूरक संकल्प मिलता है तब कोई काम पूर्णतया के तरफ अग्रसर होता है।

बिहार सरकार की नीतियां हमारे और आपके लिए कुछ आलोचनात्मक भी हो सकती है,

लेकिन शराबबंदी एवं जल जीवन हरियाली जैसे कार्यक्रम बिहार सरकार के व्यापक जन पक्षीय पहल है।

इसलिए आज जिस तरह का षड्यंत्र के तहत देश की शराब माफियाओं एवं बड़ी शराब कंपनियों के शह पर इंटेलेक्चुअल वर्ग एवं कुछ राजनैतिक लोगों द्वारा बिहार में शराबबंदी को विफल कराने की कुत्सित प्रयास हो रहा है, जो बिहार राज्य के प्रत्येक संवेदनशील नागरिक के लिए पीड़ादायक है।

बिहार में शराबबंदी अभियान को विफल कराने का प्रयास एक सुनियोजित रणनीति के तहत हो रहा है, जिसे प्रदेश का कोई भी सभ्य नागरिक समाज कभी बर्दाश्त नहीं करेगा।

बिहार की माँ बहनों को घरेलू, सामाजिक हिंसा से बचाने एवं बिहार वासियों को सड़क दुर्घटना, गरीबी, कुपोषण से बचाने के लिए शराबबंदी के इस मुहिम को एक ज़िम्मेवार नागरिक होने के नाते हर स्तर पर शराबबंदी का समर्थन करें।

शराबबंदी के इस अभियान को गति देने हेतु एक दूसरे से चर्चा करके गोष्ठियों में, बैठकों में, सभाओं में, सेमिनारों में, समाचार पत्रों में, स्कूलों में, कॉलेजों में, विश्वविद्यालयों में ,सोशल मीडिया पर जहां भी आप है वहीं से राज्य के इस शराबबंदी मुहिम का समर्थन करें तथा सरकार एवं प्रशासन को भरपूर सहयोग करें।

राज्य के और अन्य मुद्दे आलोचनात्मक हो सकते है लेकिन शराबबंदी एक सशक्त कदम है। आइए हम सब मिलकर इस मुहिम को सफल बनाएँ एवं अपने राज्य को खुशहाल बनाएँ।

Latest News