Wed. Jun 19th, 2024

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

Share this News

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

 

21 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में मनाने का विचार कनाडा में रहने वाले बांग्लादेशी रफीकुल इस्लाम द्वारा सुझाया गया था। इसकी घोषणा यूनेस्को द्वारा 17 नवंबर, 1999 को की गई थी और जिसे विश्व द्वारा वर्ष 2000 से मनाया जाने लगा। इस पहल का उद्देश्य विश्व के विभिन्न क्षेत्रों की विविध संस्कृति और बौद्धिक विरासत की रक्षा करना तथा मातृभाषाओं का संरक्षण करना एवं उन्हें बढ़ावा देना है। किसी भी राष्ट्र के विकास में उसकी मातृभाषा एक बड़ी जिम्मेदारी का निर्वाह करती हुई दिखती है,बात करें मातृभाषा की तो ‘मातृभाषा’ आदमी के संस्कारों की संवाहक है।

मातृभाषा के बिना, किसी भी देश की संस्कृति की कल्पना बेमानी है। मातृभाषा हमें राष्ट्रीयता से जोड़ती है और देश प्रेम की भावना उत्प्रेरित करती है। मातृ भाषा आत्मा की आवाज़ है तथा देश को माला की लड़ियों की तरह पिरोती है। माँ के आंचल में पल्लवित हुई भाषा बालक के मानसिक विकास को शब्द व पहला सम्प्रेषण देती है। मातृ भाषा ही सबसे पहले इंसान को सोचने-समझने और व्यवहार की अनौपचारिक शिक्षा और समझ देती है।अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के संदर्भ में भारत की भूमिका विशेष मायने रखती है, क्योंकि बहुभाषी राष्ट्र होने के नाते मातृभाषाओं के प्रति भारत का उत्तरदायित्व ज्यादा मायने रखता है।भारत में दुनिया की तुलना में बहुभाषिकता का बहुत ज्यादा प्रचलन है। भारत में मातृ भाषाओं को लेकर विवाद होते रहते हैं, खासतौर पर भाषायी द्वंद्व राजभाषा हिंदी और देश की अन्य शेष भाषाओं के बीच बना रहता है। गैर हिंदी भाषियों का हमेशा आरोप रहता है कि उन पर हिंदी थोपी जाती है। वहीं हिंदी भाषी भी देश की अन्य भाषाओं को सीखने के प्रति न तो रुझान दिखाते हैं और ना ही उसके प्रति उनका कोई रुझान देखने को मिलता है, अगर ऐसा हो जाये तो भारतीय भाषाओं के बीच लोगों में वैमनस्य समाप्त किया जा सकता है।

संयुक्त राष्ट्रसंघ की मानें तो प्रत्येक दो सप्ताह में एक स्थानीय भाषा लुप्त हो रही है। लुप्त होती भाषाओं के साथ एक पूरी सांस्कृतिक एवं बौद्धिक विरासत भी खत्म हो जाती है। ऐसे दौर में मातृभाषा को बढ़ावा देने की जरूरत है,विश्व के किसी भी देश में प्राथमिक शिक्षा विदेशी भाषा में नहीं दी जाती । विश्व के परिप्रेक्ष्य में लगभग सभी उन्नत एवं विकसित देशों में वहाँ की शिक्षा, शोध कार्यों, शासन-प्रशासन की भाषा वहां की मातृभाषा होती है और अपने देश में भी ऐसे ही भाव को प्रोत्साहित करना चाहिए जिससे कि सभी कार्य मातृभाषा में हों।

लेखक- सचिन कुमार सिंह (छपरा,बिहार)
छात्र, इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय।

Latest News