Wed. Jul 28th, 2021

आज के परिवेश में तकनीकी शिक्षा क्यों है जरूरी पढ़िए एक रिपोर्ट

Share this News
  1. आज के परिवेश में तकनीकी शिक्षा क्यों है जरूरी पढ़िए एक रिपोर्ट

B.B.J-DESK

आज भारत के हर संभव विकास की बुनियाद में तकनीकी विकास भी जरूरी हो गया है। इसके विभिन्न रूपों, जैसे- आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी, ऑटोमेशन, वर्चुअल रियलिटी, आग्मेंटेड रियलिटी, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, डिजिटलाइजेशन, डिजिटल इंडिया और सोशल मीडिया के आयामों की चर्चा जोरों पर है।क्योंकि टेक्नोलॉजी के बगैर एक कदम भी आगे चलना आसान नहीं है। इनका प्रवेश कामकाज के कई क्षेत्रों में हो चुका है, तो कई महकमों में पिछले दरवाजे से इनकी दखलंदाजी बढ़ रही है। आने वाले दिनों में टेक्नोलॉजी के बगैर किसी कार्य को निपटाना संभव नहीं होगा।

देश का सामान्य व्यक्ति हो या फिर शिक्षा, कृषि, स्वास्थ्य, परिवहन, औद्योगिक क्षेत्र, सभी विज्ञान और टेक्नोलॉजी की जद में आ चुके हैं। ऐसे में हमारी बुनियादी शिक्षा व्यवस्था के अंतर्गत पढ़ाए जाने वाले पाठ्यक्रमों को लेकर दुविधाएं बढ़ती जा रही हैं।बच्चों को उच्च शिक्षा से जोड़ता हैं द एडमिशन लिंक एजुकेशन कंसलटेंसी

हम देंगे आपके सपनों को नई उड़ान, तकनीकी शिक्षा जागरुकता अभियान, शिक्षा है सबका अधिकार पढ़ेगा बिहार तो बढेगा बिहार सोच के साथ पिछले कई सालों से बिहार के मेधावी, लगनशील छात्रों को उच्च शिक्षा पाने के सपनों को पूरा कर रहा है द एडमिशन लिंक एजुकेशन कंसलटेंसी हर अभिभावक चाहता है कि उसका बच्चा देश के बड़े नामचीन विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करें पर आर्थिक तंगी के कारण कईयों के सपने पुरा होने से पहले ही दम तोड़ देते हैं उनके बच्चे उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं जिसका नतीजा होता है कि हमारा बच्चा भी काबिलियत और पढ़ने का जज्बा होते हुए उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं द एडमिशन लिंक एजुकेशन कंसलटेंसी द्वारा भारत सरकार चलाए जा रहे छात्रवृत्ति योजना को हर जरूरतमंद तक पहुंचाता है ‌। और उन्हें उचित मार्गदर्शन देकर आसानी से एजुकेशन लोन मुहैया कराकर उन्हें आर्थिक सहायता से सुदृढ़ बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ताकि ऐसे बच्चों को भारत के विख्यात कॉलेजों में नामांकन सुनिश्चित हो सके और उच्च शिक्षा प्राप्त कर देश और समाज का नाम रोशन करें‌‌। शहर हो या गांव आज हर जगह ऐसे होनहार मेधावी बच्चे मिल ही जाएंगे जिनका सपना ऊंची उड़ान का है डॉक्टर , इंजीनियर,

पायलट आदि रहता है पर पैसों की कमी के कारण वंचित रह जाते हैं और उनका सपना अधूरा ही रह जाता है। ऐसे में द एडमिशन लिंक एजुकेशन कंसलटेंसी की ओर से हजारों छात्रों को छात्रवृत्ति उचित मार्गदर्शन और प्रतिष्ठित कॉलेजों में नामांकन दिला कर कमजोर परिवार को समाज में एक अलग पहचान दिलाई जाती है। द एडमिशन लिंक अब और मजबूती दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ विभिन्न गांव तक पहुंच रही है बच्चों को स्कॉलरशिप दिलवाने के लिए पूरी तत्परता से कार्यरत है , द एडमिशन लिंक के निर्देशक अर्जुन सिंह का कहना है कि आज अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए दृढ़ संकल्पित रहे एवं उचित शिक्षा दिलाने में उनका संस्था एडमिशन लिंक तत्पर है ऐसे बच्चों को छात्रवृत्ति राशि मुहैया कराकर उन्हें आत्मनिर्भर की ओर जाने में महत्वपूर्ण कार्य करता है

जैसे की आप लोग जानते है कि राज्य में बहुत से ऐसे युवा है जो उच्च शिक्षा तो प्राप्त करना चाहते है लेकिन आर्थिक तंगी के कारण हासिल नहीं कर पाते है और अपने सही दिशा से वंचित रह जाते हैं इस समस्या को देखते हुए राज्य सरकार ने विधार्थियो के हित के लिए बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना को शुरू किया है । इस योजना के अंतर्गत राज्य के विधार्थियो को 12 वी के बाद आगे कि शिक्षा प्राप्त करने के लिए बैंक द्वारा 4 लाख रूपये तक का लोन प्रदान किया जायेगा। इस योजना के द्वारा विद्यार्थी उच्च शिक्षा के साथ साथ रोजगार प्राप्त करने में भी सफल होंगे।

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के लाभ

इस योजना के अंतर्गत जिन्होंने बिहार सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थानों से अपनी मैट्रिक,इंटरमीडिएट / 12 वीं व स्नातक कक्षा उत्तीर्ण की है ।और वह उच्च शिक्षा जैसे स्नातक ,बीए ,बीएससी आदि में उच्चा शिक्षा प्राप्त करना चाहते है तो उन्हें सरकार द्वारा 4 लाख रूपये तक का लोन वित्तीय सहायता के रूप में उपलब्ध कराया जायेगा ।

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना 2021 के तहत छात्र छात्राओं लोन लेने के लिए किसी तरह का कोई ब्याज नहीं देना होगा ।इस योजना का लाभ राज्य के उन छात्रों को होगा जो मूल रूप से गरीब पृष्ठभूमि से हैं और अपनी उच्च शिक्षा पूरी करने के लिए उत्सुक है।

इस लोन में शिक्षण संस्थानों का शुल्क साथ में खाने पीने पाठ्य सामग्री से सम्बंधित खर्चे शामिल होंगे। राज्य के छात्र छात्राओं को इस योजना के तहत आर्थिक तंगी से छुटकारा मिलेगा कर और उनका जीवन स्तर ऊपर उठेगा। स्टूडेंट्स बिहार क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ लेने के लिए इसका आवेदन ऑनलाइन भी कर सकते हैं www.theadmissionlinks.com

इस योजना के तहत, राज्य सरकार 10 + 2 पासआउट छात्रों 0% ब्याज दर पर 4 लाख रुपये तक का शिक्षा ऋण प्रदान करती है |

छात्रों को उच्ची उड़ान दिला रहा है द एडमिशन लिंक एजुकेशन कंसलटेंसी

करिअर के लिहाज से डाक्टरी, इंजीनियरिंग, कॉमर्स, शिक्षक और वकालत जैसे पेशे के अतिरिक्त दूसरा कुछ नजर नहीं आता है। बाकी के पेशे फिजूल समझे जाते हैं, जबकि ऐसा समझना बड़ी भूल कही जा सकती है। आज प्राथमिक से लेकर हाईस्कूल में नामांकन के दौरान तक न तो बच्चों को विषय चयन की चिंता रहती है, और न ही अभिभावक इसकी जरूरत समझ पाते हैं।

बुनियाद बनाने वाले शिक्षविद और शिक्षक रिजल्ट एवं परीक्षा पास होने की एक खींची लकीर पर चलते रहते हैं। वे स्कूल की कक्षाओं के बाहर देश-दुनिया में हो रहे बदलावों से बेखबर हिंदी, अंग्रेजी या क्षेत्रीय भाषा, विज्ञान, गणित, सामाजशास्त्र, इतिहास, भूगोल और चरित्र निर्माण की नैतिकता सीखने-समझने में जुटे होते हैं। जबकि कक्षा से बाहर निकलते ही उनका सामना स्मार्टफोन, गैजेट से भरे घर, सार्वजनिक स्थल, मनोरंजन के विविध आयाम बाजार और दूसरे संसाधनों से होता है।

तब उन्हें महसूस होता है कि इनके बारे में आवश्यक जानकारी कैसे और कहां मिलेगी? जब उच्च शिक्षा के लिए कोर्स के चयन की बारी आती है तब वे काफी उलझ जाते हैं। उनके लिए अपनी योग्यता और स्कूली जानकारी के आधार पर किसी कोर्स का चयन करना मुश्किल भरा काम हो जाता।

बेहतर करिअर के लिए आखिर किस विषय की पढ़ाई करें? कहां जाएं? करिअर किन विषयों में बनाएं? नौकरी करें या किसी रोजगार को चुनें? इस उलझन का नुकसान न केवल बेहतर करिअर की उम्मीद लगाए बैठे नवयुवकों को होता है बल्कि समाज और देश को भी होता है यानी कि समुचित दिशा-निर्देश और पर्याप्त प्रशिक्षण की सुविधा के अभाव में बाहें फैलाए कई असीमित संभावनाओं की ओर उनकी नजर ही नहीं जाती है।

यह समस्या इसलिए है क्योंकि आज स्कूलों में तकनीक के बड़े बदलावों के साथ कदमताल बिठाने की कोई शिक्षा नीति नहीं है, जिसका उपयोग उच्च शिक्षा संबंधी कोर्स के चयन के लिए किया जा सके। यदि डिजिटल इंडिया के सपने के संदर्भ में नई तकनीक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी(एआई) की बात करें तो इस क्षेत्र में बनी हुई तेजी और करिअर संबंधी फायदे से नई पीढ़ी अनजान है।

इसके सकारात्मक पहलू ही सामने नहीं आए हैं। हालांकि उच्च स्तर पर एआई के क्षेत्र में कुछ भारतीय विशेषज्ञ शोधकार्य शुरू कर चुके है, जिससे देश में इसकी जरूरतें और इससे होने वाले भविष्य के बदलावों का नया दृष्टिकोण मिलेगा। भविष्य के इस नए माहौल के लिए भी तो तैयारी स्कूली स्तर से होनी चाहिए, वह नहीं हो रही। ऐसे में सवाल यह है कि इसे स्कूलों तक कैसे पहुंचाया जाए? इसमें देरी होने पर इसकी भी स्थिति कंप्यूटर के बेसिक ज्ञान की तरह स्कूली बच्चों के पिछडऩे जैसी न हो जाए? चार दशक बाद भी अधिकतर स्कूलों के बच्चे कंप्यूटर इस्तेमाल से वंचित हैं।

जबकि इसे ‘तकनीकी भाषा ज्ञान’ की तरह अनिवार्य विषय बनाया जाना चाहिए था। इसकी भी बोर्ड स्तर की परीक्षा ली जानी चाहिए थी। ऐसा होने पर मैट्रिक पास करने वाले हर विद्यार्थी को कंप्यूटर के हार्डवेयर, साफ्टवेयर के साथ-साथ कंप्यूटिंग की बेसिक जानकारी भी हो जाती। यदि ऐसा होता तो सरकार को अलग से कंप्यूटर कोर्स करवाने के लिए कौशल विकास के नाम पर योजनाएं नहीं चलानी पड़तीं।

चर्चित अमेरिकी भविष्यक्ता रे कुर्जवेल की मानें तो आने वाला समय कृत्रिम एआई का है। वर्ष 2029 के अंत तक इसमें होने वाले व्यापक सुधार से कंप्यूटर संचालित उपकरण या कहें इस्तेमाल होने वाली अधिकतर मशीनें इंसानी दिमाग की तरह काम करने में सक्षम हो जाएंगी। हर क्षेत्र में इसके आ जाने से उस दौर को तकनीकी श्रेष्ठता की तरह समझा जाएगा, जिसमें हमारी क्षमताएं मौजूदा स्तर से अरबों गुना बढ़ चुकी होंगी। ..तो क्या हम इस परिवर्तन के क्रम में तकनीकी उन्नति के उस दौर में हैं, जहां हमारा जीवन इसकी बदौलत तेजी से बदल रहा है? ऐसे में दोधारी तलवार की तरह तकनीक के वेजा इस्तेमाल के अनिश्चित तरीके की भी समझ होनी चाहिए। यह पूरा का पूरा समुचित शिक्षा और बच्चों के कौशल विकास, प्रतिभा और मेधा की समझ के साथ जुड़ा हुआ है।

हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि डिजिटल तकनीकी बदलाव की कमान भविष्य में उनके हाथ में ही होगी। यदि वे इसमें कमजोर साबित हुए तो हमारी निर्भरता यूरोपीय देशों पर और अधिक बढ़ जाएगी और फिर इनसे सृजित होने वाले नए दौर के रोजगार को अपनाने में भी हम असफल हो जाएंगे। बहरहाल, हमें जर्मनी से सीख लेनी चाहिए, जिसने तकनीकी शिक्षा और विज्ञान को स्कूली बच्चों के बीच लोकप्रिय बनाकर तरक्की हासिल की है।

औद्योगिक विकास के लिए कुशल कामगारों की कमी इन्हीं की बदौलत पूरी हो पाई। जर्मनी की अर्थव्यवस्था में कामयाबी का राज वहां अच्छा व्यवसायिक प्रशिक्षण और तकनीकी शिक्षा ही रहा है। इनके प्रति रूचि जगाने के साथ-साथ सुविधाएं मुहैय्या करवाई गई है। हमें भी तकनीकी शिक्षा को व्यापक पैमाने पर अपनाने की जरूरत है। यहां के स्कूलों में एक पीरियड ऐसा हो जिसमें सामयिक तकनीकी बातों की पढ़ाई की जा सके। इसका लाभ बच्चों की अभिरूचि के चयन और उसकी तार्किक क्षमता विकसित करने मेें मिल सकता है तथा वे इंटरनेट ऑफ थिंग्स तकनीक का बेहतर इस्तेमाल करने में सक्षम हो सकते हैं।