Fri. Jan 21st, 2022

अमरेन्द्र आर्य को भोपाल के राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से पीएचडी अवार्ड

Share this News

अमरेन्द्र आर्य को भोपाल के राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से पीएचडी अवार्ड

BBJ-NEWS

लोकगीतों के परिपेक्ष्य में महात्मा गांधी का लोकसंवाद एक विवेचनात्मक अध्ययन:

महात्मा गांधी के लोक संवाद पर किया हैं शोधकार्य:

आधा दर्जन पुस्तक को लिख चुके है सारण के अमरेंद्र:

छपरा (सारण) जिले के सदर प्रखंड स्थित डुमरी पंचायत निवासी अमरेन्द्र कुमार आर्य को माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से विगत 31 दिसंबर को आयोजित खुले साक्षात्कार के बाद जनसंचार विषय में पीएचडी अवार्ड से सम्मानित किया गया है। श्री अमरेन्द्र ने ‘लोकगीतों के परिपेक्ष्य में महात्मा गांधी का लोक-संवाद एक विवेचनात्मक अध्ययन (बिहार में प्रचलित लोकगीतों के विशेष संदर्भ में)’ विषय पर शोध कार्य पूर्ण की है। फरीदाबाद के जेसी बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ पवन सिंह मल्लिक के निर्देशन में शोध कार्य पूरा किया हैं। अमरेंद्र आर्य के पीएचडी साक्षात्कार में रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय के पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रो धीरेन्द्र पाठक, माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो केजी सुरेश, अकादमिक डीन प्रो शशिकला एवं शोध निर्देशक डॉ. पवन सिंह मल्लिक विशेषज्ञ के रूप में शामिल थे। वर्तमान में अमरेंद्र आर्य हरियाणा राज्य उच्च शिक्षा परिषद में सहायक प्राध्यापक के पद पर कार्यरत हैं।

महात्मा गांधी के लोक संवाद पर किया हैं शोधकार्य:

पीएचडी में अमरेंद्र आर्य ने बिहार के 22 जिलों में “महात्मा गांधी और उनके लोक-संवाद” पर शोध कार्य किया है। अमरेन्द्र आर्य ने 3 वर्षों में बिहार के 22 जिलों के विभिन्न गावों में 10 हजार किलोमीटर से ज्यादा की यात्रा करते हुए महात्मा गांधी, चरखा, खादी, सुराव, स्वावलंबन, आत्मनिर्भर, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता जैसे विषयों से संबंधित 102 लोकगीतों का संकलन एवं 240 से ज्यादा शोद्यार्थी, गांधीवादी विचारक, साहित्यकार, पत्रकार, स्वतंत्रता सेनानी एवं लोकगीत से संबंधित कालाकरों का साक्षात्कार लिया है। श्री आर्य विगत एक दशक से पत्रकारिता और जनसंचार विषय के विशेषज्ञ के रूप में देश में प्रतिष्ठित है। श्री आर्य ने छपरा के जयप्रकाश विश्वविद्यालय की अंगीभूत इकाई रामजयपाल महाविद्यालय से इंटरमीडिएट एवं बी.ए. आनर्स की शिक्षा प्राप्त की है

 

आधा दर्जन पुस्तक को लिख चुके है सारण के अमरेंद्र:

यूजीसी नेट उत्तीर्ण अमरेन्द्र आर्य ने राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय, भोपाल से जनसंचार में एमए एवं कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, रायपुर, छतीसगढ़ से मीडिया स्ट्रेंडीज में एमफिल की उपाधि प्राप्त किया है। अमरेन्द्र आर्य की स्वामी विवेकानंद का “संवाद कौशल” नामक पुस्तक अनिल प्रकाशन दिल्ली, भारतीय त्योहार एवं “सामाजिक संवाद” पुस्तक बालाजी प्रकाशक, फरीदाबाद और संवाद के स्वर पुस्तक यश प्रकाशन दिल्ली से प्रकाशित है और पत्रकारिता का भारतीय इतिहास एवं लोकगीतों में सामाजिक समरसता के सूत्र नामक दो पुस्तके प्रकाशन की प्रक्रिया में है।

मालूम हो कि सारण जिला परिषद के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद राय के पुत्र है। अमरेंद्र आर्य को पीएचडी उपाधि मिलने पर सारण स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के विधान पार्षद प्रो डॉ बीरेंद्र नारायण यादव, जेपीयू के पूर्व प्राध्यापक डॉ लालबाबू यादव, लायंस क्लब छपरा सारण के अध्यक्ष विक्की आनंद, श्वेतांक राय पप्पू, नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट के पूर्व महासचिव धर्मेंद्र कुमार रस्तोगी, डायट गया के प्राध्यापक सह प्रसिद्ध कलाकार जैनेंद्र दोस्त, बदलता बिहार न्यूज के पत्रकार अर्जुन सिंह, गौतम सिंह बीएड कॉलेज गरखा की प्राध्यापिका पूजा कुमारी, शिक्षिका रंजीता प्रियदर्शिनी, भिखारी ठाकुर से जुड़े कलाकार रंजीत भोजपुरिया, अभिषेक भोजपुरिया, आशा रिप्रेटरी के संस्थापक महमद जहांगीर सहित कई ने बधाई दी हैं।