सोनपुर मेला में बांस से बने उत्पाद बस्तुएँ लुभा रहे मेलार्थी को रोजगार की राह आसान करेगा हाथों का बना सामग्री

Share this News

सोनपुर मेला में बांस से बने उत्पाद बस्तुएँ लुभा रहे मेलार्थी को रोजगार की राह आसान करेगा हाथों का बना सामग्री

अर्जुन सिंह

सोनपुर–आपदाओं में सर्वाधिक प्रभावित समाज का गरीब तबका होता है। आपदा के बाद रोजगार के अभाव में परिवार परेशानियों का सामना करता है। विस्थापन को मजबूर होता है। ऐसी विषम परिस्थिति से उबरने में हाथों का हुनर कारगर साबित होगा। स्वयंसेवी संस्था युगांतर ने इस दिशा में पहल की है। हुनर को रोजगार से जोड़कर लोगों को आर्थिक स्वावलंबन की राह पर चलना सीखा रहा है। सोनपुर मेला में लगे बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के पेवेलियन में युगांतर के स्टॉल पर बांस से निर्मित उत्पादों को देखने हर दिन बड़ी संख्या में मेलार्थी आ रहे हैं। यहां उन्हें बांस के बने उत्पाद को दिखाते हुए बनाने की जानकारी भी दी जा रही है।


स्टॉल पर मौजूद युगांतर से जुड़े प्रिंस बच्चों और महिलाओं की टीम को बताते हैं कि बांस की उपलब्धता हर गांव, शहर में है। इसे काटकर इससे कई उपयोगी सामान बनाए जा सकते हैं और बनाये गए सामग्री को बाजार में इसकी भी माँग बढ़ी है। इस स्वरोजगार कर लोग अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत कर सकते हैं। खासकर महिलाओं के लिए स्वावलंबन का यह बड़ा माध्यम हो सकता है। समूह बनाकर आर्थिक आजादी की राह पर महिलाएं कदमताल कर सकती हैं। युगांतर संस्था में बांस से सामान बनाने का बाकायदा प्रशिक्षण दिया जाता है। युगांतर की टीम गांवों में जाकर इसे बनाने की विधि लोगों को बताती है।

प्राधिकरण के पेवेलियन में हर दिन हजारों की संख्या में लोग विभिन्न स्टॉल पर आकर बड़ी दिलचस्पी के साथ आपदा प्रबंधन से जुड़ी बारीकियां देख-समझ रहे हैं। इनमें बच्चों और महिलाओं की संख्या काफी होती है। बुधवार को कल्याणपुर मध्य विद्यालय, सारण के बच्चों ने प्राधिकरण की ओर से आयोजित आपदा जागरूकता के विभिन्न कार्यक्रमों में शिरकत की। पेंटिंग्स, नुक्कड़ नाटक और माॅकड्रिल में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। आपदाओं में बचने की विस्तार से बच्चों को जानकारी दी गयी । उत्कर्ष एक पहल और डाक्टर्स फॉर यू के चिकित्सकों ने मेलार्थियों की निःशुल्क जांच कर परामर्श दिया।