Wed. Sep 27th, 2023

रिश्तो में बातचीत की आवश्यकता – अर्जुन सिंह

Share this News

रिश्तो में बातचीत की आवश्यकता – अर्जुन सिंह

सारण – कैरियर मैंटर अर्जुन सिंह कहते है कि तकनीक के द्वारा जहां एक और सोचा गया था की लोगों के बीच की दूरियां कम की जाएंगी वहीं दूसरी ओर तकनीक के क्षेत्र में होने वाले विकास के कारण यह दूरियां और भी बढ़ गई हैं । भले ही कोई व्यक्ति बैठे-बैठे ही किसी से बातचीत कर पाता है, मगर उसने इस विकास को अपनी सहूलियत बना लिया है । ज्यादातर लोग अब अपने परिजनों से जाकर मिलने की जगह व्हाट्सएप पर ही हाल-चाल पूछ लिया करते हैं इसी कारण लोगों के बीच की दूरियां बढ़ती ही जा रही हैं ।

बातचीत का कौशल आना करियर और व्यवसाय के लिए ही आवश्यक नहीं है बल्कि रिश्तो की मधुरता बनाए रखने के लिए भी जरूरी है । ऐसे में मनुष्य को ना केवल अपनी बात लोगों के समक्ष रखना आना चाहिए बल्कि अन्य व्यक्तियों के मन में चल रहे विचारों को भी समझना आना चाहिए । इस तरह ताली एक हाथ से नहीं बजाई जा सकती और बातचीत भी एकतरफा नहीं हो सकती । वास्तव में खयालों का आदान-प्रदान ही बातचीत कहलाता है । अगर यह आदान-प्रदान जीवन में कभी भी होने लगता है तो लोगों के बीच आपसी दूरियां जन्म लेने लगती हैं । हम अपनों से बात करते हैं, या किसी अनजान व्यक्ति से भी बात करते हैं दो हमें विनम्र रहकर बात करनी चाहिए।

ऐसा करने से रिश्तो की मिठास बनी रहती है नए रिश्तो की एक मधुर शुरुआत हो सकती है । हमारे शब्द ही हैं जो हमारा सम्मान समाज के समक्ष बना एवं बिगाड़ सकता है तथा वह पूरी तरह मनुष्य पर निर्भर करता है कि वह अपनी छवि समाज में किस प्रकार प्रदर्शित करना चाहता है । इसलिए अच्छी बातें दूसरों के साथ करना ही निजी तथा सामाजिक रिश्तो की नींव है ।