Mon. May 27th, 2024

अपराधी हुए बैखौफ बढ़ने लगा मनोबल

Share this News

सारण मे पुलिस के चंगुल से बाहर दिख रहे है

अपराधी आयेदिन होती है वारदातें

सारण जिला में एक बार फिर अपराधियों का मनोबल बढने लगा है। पिछले दो महीनों में ही जिला के अलग अलग क्षेत्रों में अपराधियों ने आधा दर्जन लूट की घटनाओं एवं हत्याओं को अंजाम दें दिया है। सबसे बड़ी बात है कि जिला की पुलिस किसी भी घटना का न पर्दाफाश ही कर पायी है और न ही घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों को पकड़ पायी है। आंकड़ों पर गौर करें तो दिसम्बर और जनवरी माह में अपराधियों ने कैसे दिन दहाड़े हथियार का भय दिखाकर लोगों से लाखों रूपये लूट लिया और हत्या को अंजाम देकर साफ निकल भागे। जबतक पुलिस घटना की तह तक पहुंचने का प्रयास करती तबतक वह काफी दूर निकल जाने में सफल हो जा रहे है। पुलिस को काम भी औचारिकता तक ही सीमित होते जा रही है। जांच के नाम पर डाॅग स्क्वायड से जांच करवाना, आस पड़ोस के लोगों से पूछताछ बस। आंकाड़ों को देखने पर पता चलता है कि अपराधी का मनोबल जिला में कितना बढा हुआ है। 16 जनवरी 2020 को गरखा थान क्षेत्र के अख्तियापुर चैक से पंजाब नेशनल बैंक के सुपरवाईजर से लूट हालांकि उस समय उसके पास पैसा नहीं था। जिसके चलते एक बड़ी घटना होते होते बच गयी। उसके बाद 26 दिसम्बर 2019 को आधा दर्जन अपराधियों ने हथियार के बल पर तरवार मकसुदपुर के एक घर में घुसकर अकेली महिला उसकी चार बेटियों और एक बेटा को बंधक बनाकर मारपीट करते हुए ढाई लाख रूपये के आभूषण और 4 हजार रूपये नगद लूट लिया। 25 दिसम्बर 2019 को भेल्दी थाना क्षेत्र के जलालपुर सीएसपी कार्यालय में घुसकर संचालक से हथियार के बल पर एक लाख 44 हजार रूपये की लूट कर ली। 25 दिसम्बर 2019 को गरखा थाना से महज 50 मीटर की दूरी पर एक महिला से अपराधियों ने 52 हजार रूपये लूट लिया। 28 जनवरी 2020 को दरियापुर थाना क्षेत्र स्थित बाजार में आभूषण दुकान से चोरों द्वारा 15 लाख रूपये के आभूषण की चोरी कर ली गयी। 28 जनवरी 2020 को ही एकमा थाना क्षेत्र के परसागढ निवासी राधेश्याम सोनी की हत्या अपराधियों द्वारा कर दिया गया। इसके अलावा मढौरा बाजार स्थित श्री कृष्णा ज्वेलर्स दुकान से लाखों रूपये के आभूषण की भी चोरी कर लिया गया। 4 फरवरी 2020 को गरखा थाना क्षेत्र में एक सीएसपी संचालक को गोली मारकर 5 लाख 42 हजार रूपये की लूट कर लिया। इन घटनाओं से एक बार फिर जिला वासियों के मन में अराधियों के प्रति भय समा गया है। लोग घरों में या दुकानों में रखे आभूषणों के प्रति चिंताग्रस्त प्रतित होने लगे है। अपराधी अपराध करन के पहले टार्गेट बना ले रहे है जिससे उनका काम आसान हो जा रहा है। जिला पुलिस के सामने अपराधिक घटनाओं पर रोक लगाना एक चुनौती भरा कदम बनने लगा है। जल्द ही इस को काबू नहीं किया गया तो पुलिस प्रशासन को आम जनता को कोप भाजन पड़ना पड़ सकता है। हालांकि, एसपी हरकिशोर राय ने अपराधियों की धड़ पकड़ करने के लिए डीएसपी स्तर पर 5 सदस्यीय टीम का गठन किया है। देखना है कि यह टीम कितनी जल्दी अपराधियों को पकड़ने में कामयाब हो पाती है और जिला से अपराधिक गतिविधियों पर लगाम लगाने में सफल हो पाती है या नहीं।