Wed. Apr 17th, 2024

शांति पूर्ण तरीके से सम्पन्न हो गई इंटरमीडिएट की परीक्षा

Share this News

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के द्वारा 3 फरवरी से शुरू की गई इंटरमीडिएट की परीक्षा 13 फरवरी को शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हो गई। सारण जिले सम्पन्न हुई इंटरमीडिएट की परीक्षा में इस बार प्रशासन ने अपनी निगाह शिक्षकों के प्रति टेढ़ी करके रखी हुई थी। नकल कराने के आरोप में पहले ही दिन 5 वीक्षकों पर प्राथमिकी दर्ज की गई। उसके बाद फिर एक और वीक्षक पर प्राथमिकी दर्ज की गई जिसके चलते नकलचियों के नकल को रोकने के लिए सभी केन्द्राधीक्षक सजग नजर आए तथा किसी भी तरीके से अपने केंद्रों पर नकल नहीं होने देने के लिए तत्पर दिखे। हो भी क्यों नहीं प्रशासन अपनी नजरें शिक्षकों पर ही तो टेढ़ी कर रखे हुए थे। इस बार की सारण जिले में संपन्न हुई इंटरमीडिएट की परीक्षा में एक खास बात देखने को मिली कि किसी भी परीक्षा केंद्रों पर अभिभावकों का जमघट दिखाई नहीं दिया ऐसा इसलिए क्योंकि प्रशासनिक स्तर पर ऐसी व्यवस्था इस बार नजर आई जिसमे जिला प्रशासन न तो निष्कासन से परहेज किया और नहीं वीक्षकों के ऊपर कार्यवाही करने से। जिसके चलते छात्र, अभिभावक, केन्द्राधीक्षक एवं वीक्षण कार्य में लगे कर्मियों कि दिल की धड़कन बढ़ी हुई ही रहती थी कि पता नहीं कब कहां और किस पर गाज गिर जाएंगे। बताते चले कि इस बार सारण जिले में इंटरमीडिएट की परीक्षा में सदर ,सोनपुर एवं मढौरा अनुमंडलों में साइंस, कॉमर्स एवं आर्ट को मिला कर करीब 65 हजार परीक्षार्थी सम्मिलित हुए थे। इंटरमीडिएट परीक्षा में मुख्यतः साइंस की परीक्षार्थियों की संख्या ज्यादा होती है ,परीक्षा के प्रारम्भ से प्रशासन ने नकल को रोकने का भी भरपूर प्रयास किया। आंकड़े भी यह बात बताते हैं कि परीक्षार्थियों में हड़कंप मचा रहा तथा प्रतिदिन अनुपस्थित होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या बढ़ती रही। 3 फरवरी की परीक्षा में प्रथम पाली में 42173 परीक्षार्थियों में से 41431 ने परीक्षा दिया और 742 अनुपस्थित रहे तथा द्वितीय पाली की परीक्षा में 17019 परीक्षार्थियों में से 16623 ने परीक्षा दिया तथा 396 अनुपस्थित रहे। प्रथम दिन की परीक्षा में 8 परीक्षार्थियों को नकल के आरोप में निष्कासित किया गया तथा 5 वीक्षकों पर नकल कराने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज कराई गई ।वहीं 4 फरवरी की परीक्षा में प्रथम पाली में 42209 परीक्षार्थियों में से 41421 उपस्थित हुए तथा 808 परीक्षार्थी परीक्षा से अनुपस्थित रहे एवं 5 परीक्षार्थियों को नकल के आरोप में निष्कासित किया गया तथा एक वीक्षक पर नकल कराने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई गई । 5 फरवरी की परीक्षा में एक परीक्षार्थी को नकल के आरोप में परीक्षा से निष्कासित किया गया। 6 फरवरी की परीक्षा के प्रथम पाली में 43890 में 43067 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी तथा 820 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे, 2 परीक्षार्थियों को नकल के आरोप में निष्कासित किया गया। 7 फरवरी को प्रथम पाली की परीक्षा में 37112 परीक्षार्थी थे जिसमें 36441 ने परीक्षा दिए तथा 672 अनुपस्थित रहे वहीं द्वितीय पाली में 43774 परीक्षार्थियों में 42942 ने परीक्षा दिए तथा 832 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे एवं नकल के आरोप में 2 परीक्षार्थी को निष्कासित किया गया। वही 11 फरवरी की परीक्षा में प्रथम पाली में जिले में कुल परीक्षार्थियों की संख्या 22157 थी जिसमें 21591 ने परीक्षा दी तथा 566 अनुपस्थित रहे तथा द्वितीय पाली में 551 परीक्षार्थियों में 535 उपस्थित एवं 16 अनुपस्थित रहे वही 12 फरवरी की परीक्षा में प्रथम पाली में कुल 21566 में 21016 परीक्षार्थी उपस्थित रहे तथा 550 अनुपस्थित रहे एवं द्वितीय पाली में 4110 में 3972 उपस्थित एवं 138 अनुपस्थित रहे। वृहस्पतिवार को इंटरमीडिएट परीक्षा के अंतिम दिन प्रथम पाली में आर्ट के लिए होमसाइंस एवं कॉमर्स के लिए अर्थशास्त्र तथा द्वितीय पाली में आर्ट के लिए एमबी एवं कॉमर्स के लिए एकाउंटेंसी की परीक्षा हुई।परीक्षा समाप्त होते परीक्षार्थियों, अभिभावकों, प्रशासनिक पदाधिकारियों ,केंद्राधीक्षकों एवं वीक्षण कार्य मे लगे शिक्षकों ने राहत की सांस ली।